कौन हैं संजय जोशी, जिन्होंने संगठनात्मक कौशल के दम पर भाजपा को किया मजबूत

भारतीय जनता पार्टी की राजनीति को समझने वाले लोग संजय जोशी को भी जानते होंगे। संजय जोशी भाजपा संगठन के महामंत्री थे। गुजरात भाजपा के सदस्य होने के साथ-साथ भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के भी सदस्य करें। उन्होंने राष्ट्रीय महासचिव संगठन के रूप में अप्रैल 2001 से 2005 तक काम किया। भाजपा संगठन को मजबूत करने के लिए उन्होंने कई बड़े काम किए। संजय जोशी का जन्म 6 अप्रैल 1962 को महाराष्ट्र के नागपुर में हुआ था। उन्होंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। उन्होंने नागपुर की एक इंजीनियरिंग कॉलेज में लेक्चरर के तौर पर भी काम किया। हालांकि उनके अंदर राष्ट्रवाद की भावना भरी हुई थी। यही कारण था कि वह आरएसएस के पूर्णकालिक प्रचारक बन गए। उनके अंदर बेहतरीन संगठनात्मक कौशल था। यही कारण है 1988 में उन्हें गुजरात भाजपा में शामिल किया गया। 
 

इसे भी पढ़ें: मोदी के भरोसे आखिर कब तक आगे बढ़ेगी भाजपा? हर चुनाव क्या मोदी ही जितवाएंगे?

गुजरात में पार्टी की स्थिति बहुत अच्छी नहीं थी। लेकिन अपने संगठनात्मक कौशल के दम पर उन्होंने गुजरात में पार्टी को मजबूत किया। कार्यकर्ताओं के साथ अच्छे तालमेल स्थापित किए। धीरे-धीरे जोशी गुजरात भाजपा के एक प्रमुख नेता के तौर पर उभरने लगे। 1988 से 95 तक उन्होंने गुजरात भाजपा के सचिव रहे नरेंद्र मोदी के साथ मिलकर काम किया और पार्टी को मजबूत किया। राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि संजय जोशी बेहद ही क्षमतावान कार्यकर्ता हैं जो चुप रहकर भी पार्टी को मजबूत करने का काम करते हैं। यही कारण है कि पार्टी कार्यकर्ताओं में उनकी लोकप्रियता थी और वे सभी उन्हें प्यार करते थे। जोशी ने कभी कभी शादी नहीं की। उन्होंने अपना सारा जीवन पार्टी को समर्पित कर दिया। 
 

इसे भी पढ़ें: BJP Foundation Day: जेपी नड्डा बोले- भाजपा ग़रीबों की पार्टी, सेवा ही हमारा लक्ष्य है

हालांकि एक वक्त ऐसा आया जब नरेंद्र मोदी के साथ उनकी दूरी दिखने लगी। नरेंद्र मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री बने तब इसमें और दरार देखने को मिला। संजय जोशी ने 13 सालों तक गुजरात में काम किया और एक ताकतवर नेता बने। कहते हैं कि संजय जोशी के संगठनात्मक कौशल का ही नतीजा था कि गुजरात में पार्टी ने अकेले अपने दम पर 1995 का चुनाव जीता। बाद में संजय जोशी को दिल्ली में भाजपा का राष्ट्रीय महामंत्री बना दिया गया। राष्ट्रीय स्तर पर भी उन्होंने संगठन में कई बड़े काम किए हैं। हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, झारखंड, जम्मू-कश्मीर, बिहार, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा और मध्य प्रदेश में पार्टी को मजबूत बनाने और खड़ा करने में संजय जोशी का बेहद ही ज्यादा योगदान रहा है।

Source Link

DNSP NEWS

Next Post

भाजपा स्थापना दिवस पर 'परिवारवादी' पार्टियों पर बरसे मोदी, बताया लोकतंत्र का दुश्मन

Wed Apr 6 , 2022
देश के राजनीतिक इतिहास में छह अप्रैल का दिन खास अहमियत रखता है क्योंकि भारतीय जनता पार्टी की स्थापना 1980 में आज ही के दिन हुई थी। श्यामा प्रसाद मुखर्जी द्वारा 1951 में स्थापित भारतीय जन संघ से इस नयी पार्टी का जन्म हुआ था। अटल बिहारी वाजपेयी ने मुंबई […]

Breaking News