PM मोदी को सत्यपाल मलिक ने दी बधाई, कहा- अब MSP की मांग भी मान लीजिए

PM मोदी को सत्यपाल मलिक ने दी बधाई, कहा- अब MSP की मांग भी मान लीजिए

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक कृषि कानूनों को लेकर लगातार केंद्र सरकार के खिलाफ बोलते रहे हैं। इन सबके बीच उन्होंने कृषि कानूनों को वापस लिए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी। लेकिन साथ ही उन्होंने यह भी आग्रह किया कि किसानों की एमएसपी गारंटी की मांग भी मान ली जाए। अपने बयान में सत्यपाल मलिक ने कहा कि कृषि कानूनों को वापस लेकर मोदी ने अच्छा काम किया है। आप समाधान की तरफ बढ़ रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि किसानों के एमएसपी की मांग को मान लें और एक कमेटी बना दे तो मामला हल हो जाएगा और किसान आंदोलन से भी उठ जाएंगे। सत्यपाल मलिक ने यह भी कहा कि अब तक किसानों की सभी मांगों को नहीं मानी गई है। एमएसपी फिलहाल उनकी मूल मांग है।     

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक कृषि कानूनों को लेकर लगातार केंद्र सरकार के खिलाफ बोलते रहे हैं। इन सबके बीच उन्होंने कृषि कानूनों को वापस लिए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी। लेकिन साथ ही उन्होंने यह भी आग्रह किया कि किसानों की एमएसपी की मांग भी मान ली जाए। अपने बयान में सत्यपाल मलिक ने कहा कि कृषि कानूनों को वापस लेकर मोदी ने अच्छा काम किया है। आप समाधान की तरफ बढ़ रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि किसानों के एमएसपी की मांग को मान लें और एक कमेटी बना दे तो मामला हल हो जाएगा और किसान आंदोलन से भी उठ जाएंगे। सत्यपाल मलिक ने यह भी कहा कि अब तक किसानों की सभी मांगों को नहीं मानी गई है। एमएसपी फिलहाल उनकी मूल मांग है।     

राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि मैं किसानों से एमएसपी पर आश्वासन प्राप्त करने का आग्रह करूंगा। मैं उन्हें सलाह दूंगा कि वे अनावश्यक रूप से विरोध न बढ़ाएं। सत्यपाल मलिक ने इस बात को बार-बार दोहराया कि एमएसपी को लेकर एक कमेटी बननी चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो किसान अपना आंदोलन वापस नहीं लेंगे। सत्यपाल मलिक ने फिर कहा कि वह किसानों के साथ है और एमएसपी को लेकर उनकी राय भी वही है जो किसान नेताओं की है। इसके साथ ही उन्होंने राज्यपाल पद छोड़ने को लेकर भी अपनी बात कही। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि पद छोड़ने के संकेत मिलते ही वह इस्तीफा दे देंगे। 

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक कृषि कानूनों को लेकर लगातार केंद्र सरकार के खिलाफ बोलते रहे हैं। इन सबके बीच उन्होंने कृषि कानूनों को वापस लिए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी। लेकिन साथ ही उन्होंने यह भी आग्रह किया कि किसानों की एमएसपी गारंटी की मांग भी मान ली जाए। अपने बयान में सत्यपाल मलिक ने कहा कि कृषि कानूनों को वापस लेकर मोदी ने अच्छा काम किया है। आप समाधान की तरफ बढ़ रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि किसानों के एमएसपी की मांग को मान लें और एक कमेटी बना दे तो मामला हल हो जाएगा और किसान आंदोलन से भी उठ जाएंगे। सत्यपाल मलिक ने यह भी कहा कि अब तक किसानों की सभी मांगों को नहीं मानी गई है। एमएसपी फिलहाल उनकी मूल मांग है।     

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक कृषि कानूनों को लेकर लगातार केंद्र सरकार के खिलाफ बोलते रहे हैं। इन सबके बीच उन्होंने कृषि कानूनों को वापस लिए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी। लेकिन साथ ही उन्होंने यह भी आग्रह किया कि किसानों की एमएसपी की मांग भी मान ली जाए। अपने बयान में सत्यपाल मलिक ने कहा कि कृषि कानूनों को वापस लेकर मोदी ने अच्छा काम किया है। आप समाधान की तरफ बढ़ रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि किसानों के एमएसपी की मांग को मान लें और एक कमेटी बना दे तो मामला हल हो जाएगा और किसान आंदोलन से भी उठ जाएंगे। सत्यपाल मलिक ने यह भी कहा कि अब तक किसानों की सभी मांगों को नहीं मानी गई है। एमएसपी फिलहाल उनकी मूल मांग है।     

राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि मैं किसानों से एमएसपी पर आश्वासन प्राप्त करने का आग्रह करूंगा। मैं उन्हें सलाह दूंगा कि वे अनावश्यक रूप से विरोध न बढ़ाएं। सत्यपाल मलिक ने इस बात को बार-बार दोहराया कि एमएसपी को लेकर एक कमेटी बननी चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो किसान अपना आंदोलन वापस नहीं लेंगे। सत्यपाल मलिक ने फिर कहा कि वह किसानों के साथ है और एमएसपी को लेकर उनकी राय भी वही है जो किसान नेताओं की है। इसके साथ ही उन्होंने राज्यपाल पद छोड़ने को लेकर भी अपनी बात कही। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि पद छोड़ने के संकेत मिलते ही वह इस्तीफा दे देंगे। 

Source Link