यूक्रेन को मानवीय सहायता प्रदान कर रहा भारत, 2+2 की बैठक के बाद बोले विदेश मंत्री- श्रीलंका-पाक पर भी हुई चर्चा

यूक्रेन को मानवीय सहायता प्रदान कर रहा भारत, 2+2 की बैठक के बाद बोले विदेश मंत्री- श्रीलंका-पाक पर भी हुई चर्चा
विदेश मंत्री एस जयशंकर भारत और अमेरिका के बीच 2 प्लस टू की बैठक के लिए वाशिंगटन गए थे। वहां उन्होंने अमेरिका के विदेश मंत्री के साथ बैठक की। बैठक के बाद आज विदेश मंत्री एस जयशंकर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस किया। अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में ऐसा शंकर ने कहा कि मानवीय स्थिति (यूक्रेन) में विभिन्न देश क्या कर रहे हैं, हमने उस बारे में बात की। हमने मार्च महीने में 90 टन राहत सामग्री दी। लेकिन अभी यूक्रेन को दवाओं की आपूर्ति पर अधिक ध्यान दिया जा रहा।

वाशिंगटन में विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने कहा कि इंडो-पैसिफिक में और अधिक आर्थिक गतिविधियों के बारे में चर्चा हुई। ऐसा क्या है जो विभिन्न देश, विशेष रूप से क्वाड, अधिक आर्थिक सहयोग को बढ़ावा देने के लिए कर सकते हैं। इसके अलावा उन्होंने कहा कि श्रीलंका में आई कठिनाइयां, पाकिस्तान में बड़े बदलाव, नेपाल, म्यांमार में हाल ही में जो हुआ, उस पर चर्चा हुई। विदेश मंत्री ने कहा कि हमने अफगानिस्तान के बारे में और वहां क्या घटनाक्रम रहा है, इस बारे में एक दूसरे को अपडेट किया। जैसा कि आप सभी जानते हैं, हमारा दृष्टिकोण संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव पर आधारित है।

विदेश मंत्री ने कहा कि हमारे पास कई घटनाएं हैं जिन्होंने वास्तव में ऊर्जा बाजार को सख्त कर दिया है और हमारी अर्थव्यवस्थाओं पर दबाव डाला है और दूसरों के लिए यह महसूस करना महत्वपूर्ण है। इसलिए, मुझे लगता है कि हम इस बारे में बिल्कुल स्पष्ट थे कि विकास की संभावनाओं और मुद्रास्फीति के परिणामों के लिए उच्च ऊर्जा की कीमतें क्या कर रही हैं। उन्होंने कहा कि बहुत विस्तृत चर्चा हुई – हम कहाँ हैं और हमें अभी और क्या करना है और अगली बार जब हम (क्वाड) मिलेंगे। इंडो-पैसिफिक में और अधिक आर्थिक गतिविधियों के बारे में चर्चा। ऐसा क्या है जो विभिन्न देश, विशेष रूप से क्वाड, अधिक आर्थिक सहयोग को बढ़ावा देने के लिए कर सकते हैं।

Source Link

DNSP NEWS

Next Post

सेना प्रमुख बोले- सशस्त्र बलों के लिए निवेश को अर्थव्यवस्था पर भार के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए

Wed Apr 13 , 2022
गांधीनगर। सेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे ने बुधवार को कहा कि सशस्त्र बलों पर किया जाने वाला व्यय ऐसा निवेश है जिसकी पूरी तरह वापसी होती है और इसे अर्थव्यवस्था पर भार की तरह नहीं देखा जाना चाहिए। राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय में पुस्तक ‘फिफ्टी ईयर्स ऑफ 1971 वॉर: एकाउंट्स […]

Breaking News