राज ठाकरे के घर के बाहर NCP का प्रदर्शन, लगाए गए नारा ए तकबीर और अल्लाह हू अकबर के नारे

राज ठाकरे के घर के बाहर NCP का प्रदर्शन, लगाए गए नारा ए तकबीर और अल्लाह हू अकबर के नारे

देश में लाउडस्पीकर और अजान को लेकर इस वक्त जबरदस्त बहस छिड़ी हुई है। महाराष्ट्र में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की नगर इकाई ने मनसे प्रमुख राज ठाकरे की हाल की उस टिप्पणी की निंदा करते हुए आंदोलन किया जिसमें राज्य सरकार से मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने का आग्रह किया गया था। नारा ए तकबीर और अल्लाह हू अकबर के नारे लगाए गए। दो अप्रैल को मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने बयान दिया था कि मस्जिदों में अजान की आवाज को कम नहीं किया गया तो इसके खिलाफ मस्जिदों के बाहर और तेज आवाज में हनुमान चालीसा बजाया जाएगा। 

राज ठाकरे के बयान के खिलाफ एनसीपी ने प्रदर्शन किया। राकांपा नेताओं ने कहा कि ठाकरे की टिप्पणी संविधान के सिद्धांतों के खिलाफ है। कोंढवा इलाके में प्रदर्शन किया गया। एनसीपी के सिटी यूनिट के प्रमुख प्रशांत जगताप ने कहा, “संविधान ने सभी को अपने धर्मों और मान्यताओं की पूजा करने और जश्न मनाने की आजादी दी है। समाज में सद्भाव बनाए रखने और राजनीतिक लाभ के लिए बयान देने से बचने की जरूरत है। प्रदर्शनकारियों ने ‘राज ठाकरे मुर्दाबाद’ के साथ ‘वसंत मोरे जिंदाबाद’ का नारा लगाते हुए पुणे के मनसे ऑफिस पर हंगामा और तोड़फोड़ की है। इसके साथ ही प्रदर्शन में नारा ए तकबीर और अल्लाह हू अकबर के नारे लगाए गए।

इस बीच, मनसे नेता वसंत मोरे ने शुक्रवार को कहा कि उन्हें शिवसेना नेताओं से पार्टी में शामिल होने के लिए फोन आए थे। “मुझे राकांपा नेताओं के भी फोन आए। यहां तक ​​कि कुछ कांग्रेसी नेताओं ने भी मुझे फोन किया। लेकिन मैं मनसे के साथ हूं। मोरे ने कहा कि उनकी जगह पूर्व नगरसेवक साईनाथ बाबर को गुरुवार को मनसे की शहर इकाई का प्रमुख बनाया गया। मोरे ने कहा कि नगर इकाई प्रमुख के रूप में उनका एक साल का कार्यकाल पहले ही समाप्त हो चुका है। “मेरा कार्यकाल मार्च में समाप्त हो गया था। बाबर मेरा अच्छा दोस्त है, और मैं उसके साथ काम करना जारी रखूंगा 

Source Link

DNSP NEWS

Next Post

राहुल गांधी ने कहा- सत्ता के केंद्र में पैदा हुआ, लेकिन मुझे इसमें कोई दिलचस्पी नहीं

Sat Apr 9 , 2022
कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने दिल्ली में एक किताब के विमोचन के दौरान बीजेपी सरकार पर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने कहा कि हमें संविधान की रक्षा करनी है। संविधान को बचाने के लिए हमें अपनी संस्थाओं की रक्षा करनी होगी। लेकिन सारी संस्थाएं आरएसएस के हाथों में है। […]

Breaking News