क्या मुंबई बनने वाला है केंद्र शासित प्रदेश? प्रजेंटेशन गृह मंत्रालय को सौंपा गया, जानें किसने किया ये बड़ा दावा

महाराष्ट्र में बीजेपी और सत्ताधारी शिवसेना के बीच सियासी घमासान जारी है। ईडी द्वारा संपत्ति अटैच किए जाने के बाद से ही संजय राउत बीजेपी पर लगातार निशाना साध रहे हैं। वहीं हाल ही में हुए गोवा विधानसभा चुनाव में फोन टैपिंग का आरोप लगाने वाले शिवसेना नेता संजय राउत आज पुलिस के सामने पेश हो सकते हैं। कोलाबा पुलिस ने उन्हें संबंधित मामले में बयान दर्ज कराने के लिए समन भेजा है। लेकिन इन सब के बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने बीजेपी पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने बीजेपी पर देश की आर्थिक राजधानी मुंबई को केंद्र शासित प्रदेश बनाने का प्लान बनाने के आरोप लगाए हैं। शिवसेना प्रवक्ता और सांसद संजय राउत ने किरीट सोमैया और उनके कुछ लोगों पर मुंबई को केंद्र शासित प्रदेश बनाने की साजिश का गंभीर आरोप लगाया है। 

इसे भी पढ़ें: ED की कार्रवाई के बीच पीएम मोदी से मिले शरद पवार, संजय राउत की कुर्क संपत्ती का उठाया मुद्दा

राउत ने कहा कि मुंबई को केंद्र शासित प्रदेश कैसे बनाया जाए, इस पर बीजेपी के पांच सदस्यों ने एक प्रेजेंटेशन तैयार किया है और इसे गृह मंत्रालय को दे दिया गया है। संजय राउत ने मुंबई में मीडिया से बात करते हुए कहा कि इसकी शुरुआत मुंबई के कुछ अमीर लोगों, बीजेपी नेताओं और बिल्डरों की मिलीभगत से हुई है और किरीट सोमैया इसका नेतृत्व कर रहे हैं। संजय राउत ने कहा कि किरीट सोमैया हमेशा फर्जी कागजात लेकर दिल्ली जाते हैं। मुंबई को केंद्र शासित प्रदेश बनाने के लिए किरीट सोमैया और उनके लोगों की बड़ी साजिश है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा ने कोल्हापुर के मतदाताओं को सीधे ईडी के नाम पर धमकाया: नाना पटोले

संजय राउत ने कहा कि इन लोगों ने गृह मंत्रालय को प्रेजेंटेशन दिया है। इसकी शुरुआत मुंबई के कुछ अमीर लोगों, बीजेपी नेताओं और बिल्डरों की मिलीभगत से हुई और इसका नेतृत्व किरीट सोमैया कर रहे हैं। मुंबई को केंद्र शासित प्रदेश कैसे बनाया जाए, इस पर बीजेपी के पांच लोगों ने मुंबई में प्रेजेंटेशन तैयार किया है और इसके  सरगना किरीट सोमैया हैं। संजय राउत ने कहा कि कुछ करके वे मुंबई पर मराठी लोगों के अधिकार और अधिकार छीन लेना चाहते हैं। मुंबई को अलग करना चाहते हैं और मुंबई पर एक केंद्रीय राज्य लाना चाहते हैं। इसके साथ ही राउत ने किरीट सोमैया को पागल बताया है।

Source Link

DNSP NEWS

Next Post

जम्मू कश्मीर HC ने रोहिंग्या की निशानदेही कर सूची तैयार करने का दिया आदेश, 6 सप्ताह के भीतर गृह सचिव को बनानी होगी ठोस रणनीति

Fri Apr 8 , 2022
देश की सर्वोच्च अदालत ने जम्मू में रह रहे रोहिंग्या मुसलमानों को किसी भी किस्म की राहत नहीं प्रदान की है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर अपना फैसला सुनाते हुए कहा है कि जम्मू में रोहिंद्या मुसलमानों के प्रत्यर्पण तय प्रक्रिया पूरी होने तक नहीं होगी। कोर्ट ने केंद्र […]

Breaking News