National

कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय गुर्जर महासभा की बैठक में नेताओं ने रखी कई नई मांगें

अंतरराष्ट्रीय गुर्जर महासभा (आईजीएम) ने श्रीनगर के टैगोर हाल में “गुज्जर बक्करवाल एसटी अधिकार” पर एक राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया और अपनी मांगों को केंद्र सरकार और राज्य प्रशासन के समक्ष रखा। इस कार्यक्रम में अंतरराष्ट्रीय गुर्जर महासभा के नेताओं और खासतौर पर केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के विभिन्न भागों से आये आदिवासी गुर्जर समुदाय ने भाग लिया। कार्यक्रम की शुरुआत देश की रक्षा के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले शहीदों को श्रद्धांजलि देने के साथ हुई और फिर सभी के लिए खुशी और समृद्धि की कामना की गयी। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि और अन्य गणमान्य लोगों को पारम्परिक गुर्जर साफा पहना कर उनका स्वागत किया गया। कार्यक्रम के दौरान नेताओं ने गुर्जर, बक्करवाल और जम्मू-कश्मीर के अन्य आदिवासियों को पूर्ण अनुसूचित जनजाति का अधिकार देने के लिए भारत सरकार का आभार जताया और अपने समुदाय के हितों की रक्षा की मांग की। प्रभासाक्षी संवाददाता ने इस आयोजन का जायजा लिया और गुर्जर नेताओं से बातचीत की। बातचीत में गुर्जर नेताओं ने कहा कि सरकार की योजनाओं का लाभ समुदाय के लोगों को पूरी पारदर्शिता के साथ मिलना चाहिए।
 
मुठभेड़ मामले में बड़ा खुलासा
 
दूसरी ओर, जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी की पहचान पाकिस्तान के बाबर भाई के रूप में की गयी है जो 2018 से सक्रिय था। हम आपको बता दें कि यह मुठभेड़ बुधवार को दक्षिण कश्मीर जिले के परीवान इलाके में हुई थी। कश्मीर मंडल की पुलिस ने ट्विटर पर बताया, ‘‘मारे गए जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी की पहचान पाकिस्तान के बाबर भाई के रूप में की गयी है जो 2018 से शोपियां-कुलगाम के इलाकों में सक्रिय था।’’ पुलिस ने बताया कि मुठभेड़ स्थल से एक एके राइफल, एक पिस्तौल तथा दो ग्रेनेड बरामद किए गए हैं। मुठभेड़ में एक पुलिसकर्मी भी मारा गया और तीन जवान समेत पांच लोग घायल हो गए।

 

Source Link