दुश्मनों के टैंक का काल, HELINA ने दुनियाभर में मचाया हाहाकर, खूबियां जानकर रह जाएंगे दंग

आज का नया हिन्दुस्तान दिनों दिन ताकतवर होता जा रहा है। चीन और पाकिस्तान से मिल रही चुनौतियों से पार पाने के लिए ताकतवर हथियार विकसित किए जा रहे हैं। भारत की ताकत में और इजाफा होने जा रहा है क्योंकि आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देते हुए हेलीकॉप्टर से दागी जाने वाली आत्याधुनिक एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल हेलिना का ऊंचाई वाले इलाके में परीक्षण कर हिन्दुस्तान ने दुनिया को हैरान कर दिया। अब दुनिया के ताकतवर से ताकतवर टैंक को सेना का ये ब्रह्मास्त्र पलभर में ध्वस्त कर देगा। 

हेलिना मिसाइल का 24 घंटे में दूसरा परीक्षण 

चीन से जारी सीमा पर तनातनी के बीच भारत ने लद्दाख में दुनिया के सबसे उन्नत टैंक रोधी हथियारों में से एक हेलिना गाइडेड मिसाइल का कामयाब परिक्षण किया है।  रक्षा मंत्रालय ने कहा कि टैंक विध्वंसक ‘हेलिना’ मिसाइल का हेलीकॉप्टर के जरिए दूसरा सफल परीक्षण किया गया। बता दें कि हेलिना का पहला सफल परीक्षण ठीक एक दिन पहले किया गया था। योजना के अनुसार, मिसाइल ने टैंक प्रतिकृति लक्ष्य पर सटीक निशाना साधा। परीक्षण के दौरान सेना के वरिष्ठ कमांडर और रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के वैज्ञानिक मौजूद थे।

इसे भी पढ़ें: Deoghar Ropeway Accident : वायुसेना के हेलिकॉप्टरों ने 10 और लोगों को सुरक्षित निकाला, 3 लोग अभी भी फंसे

कुछ सेकेंड में ही दुश्मन को खाक में मिलाने की क्षमता 

हिन्दुस्तान का नया बाहुबली फायर होने के बाद चंद सेकेंड में ही ताकतवर से ताकतवर दुश्मन को खाक में मिला देगा। चीन जिस ताकत की नुमाइश करता है, जिन टैंकों का दंभ भरता है। जिन तोपों का एलएसी पर डर दिखाने का प्रोपोगैंडा करता है। उनका अंजाम भी बेहद खौफनाक होगा। हिन्दुस्तान ने चालबाज चीन के टैंकों से पार पाने वाले मिसाइल का टेस्ट कर उसे हक्का-बक्का कर दिया है। 

230 मीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार

हेलिना हर मौसम में दिन या रात कभी भी निशाना साधकर लक्ष्य नष्ट करने में सक्षम है और यह पारंपरिक बख्तरबंद प्रणालियों तथा युद्धक टैंकों को तबाह कर सकती है। इस मिसाइल में लगी इंफ्रारेड इमेजिंग सीकर तकनीक गाइड करती है, जो मिसाइल के लॉन्च होने के साथ ही सक्रिय हो जाता है। दुनिया के बेहतरीन और अत्याधुनिक एंटी टैंक हथियारों में से एक है। भारत में निर्मित हेलिना 230 मीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार से चलती है। 828 किलोमीटर प्रति घंटा। इस गति से आती किसी भी मिसाइल से बचने के लिए दुश्मन के टैंक को मौका नहीं मिलेगा।  

Source Link

DNSP NEWS

Next Post

दिग्विजय सिंह के खिलाफ FIR दर्ज, खरगोन हिंसा को लेकर साझा की थी गलत तस्वीर

Tue Apr 12 , 2022
मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। दरअसल, खरगोन हिंसा को लेकर दिग्विजय सिंह की ओर से ट्वीट किया गया था। इसी ट्वीट के मामले में भोपाल क्राइम ब्रांच ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की कर ली है। अपने […]

Breaking News