National

मुख्यमंत्री ने कोविड-19 की समीक्षा पर आयोजित प्रधानमंत्री की वीडियो कान्फ्रेंस में भाग लिया

शिमला    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज राज्यों के मुख्यमंत्रियों, केन्द्र शासित प्रदेशों के उप-राज्यपालों एवं प्रशासकों के साथ आयोजित वर्चुअल बैठक के दौरान देश में कोविड-19 महामारी की स्थिति की समीक्षा करते हुए अधिकांश राज्यों में संक्रमण के मामलों में हुई वृद्धि पर चिन्ता व्यक्त की। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने शिमला से वर्चुअल माध्यम से बैठक में भाग लिया।
प्रधानमंत्री ने इस महामारी से घबराने के बजाय सतर्क रहने की आवश्यकता पर भी बल दिया। उन्होंने कहा कि इस महामारी की रोकथाम पर अधिक ध्यान दिया जाना चाहिए और वायरस की जितनी अधिक जॉंच करने में हम सफल होंगे, यह सभी के लिए उतनी ही राहत की बात होगी।
केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बैठक का संचालन किया।
 

इसे भी पढ़ें: विधायक नैहरिया की पत्नी अपने पति के जुल्म सितम सुनाती सुनाती फफक फफक कर रो पडीं

भारत सरकार में सचिव स्वास्थ्य राजेश भूषण ने देश में कोविड की अद्यतन स्थिति पर प्रस्तुति भी दी। इस वीडियो कान्फ्रेंस के उपरान्त राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने गृह संगरोध के लिए प्रभावी तंत्र विकसित करने के निर्देश देते हुए कहा कि राज्य में अधिकांश संक्रमित लोग गृह संगरोध में हैं। उन्होंने रोगियों के घर से स्वास्थ्य संस्थानों तक परिवहन की बेहतर व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए ताकि आवश्यकता पड़ने पर उन्हें तत्काल उपचार की सुविधा प्रदान की जा सके।
 

इसे भी पढ़ें: पंजाब के सीएम ने प्रियंका गांधी वाड्रा को जानकारी क्यों दी? : कश्यप

जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य में कोविड-19 संक्रमण के मामलों में तीव्र वृद्धि चिन्ता का विषय है, लेकिन प्रदेश सरकार किसी भी विपदा से निपटने के लिए पूर्ण रूप से तैयार है। उन्होंने कहा कि राज्य में 11,500 बिस्तर क्षमता उपलब्ध है, जिसे 17000 तक बढ़ाया जा सकता है। इसके साथ ही 2374 ऑक्सीजनयुक्त  समर्पित बिस्तर, 8765 कोविड समर्पित बिस्तर, 237 आईसीयू बिस्तर और 1014 वेंटीलेटर उपलब्ध हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में वर्तमान में 59.37 एमटी ऑक्सीजन क्षमता के 48 पीएसए संयंत्र, 2100 ए-टाइप सिलेंडर, 5009 बी-टाइप सिलेंडर, 1112 डी-टाइप सिलेंडर और 5723 कंसन्ट्रेटर्स उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में  पीसीएम 650, पीसीएम 500, रेमडेसिविर, डेक्सामिथाजॉन, हाइड्रो कॉर्टिसन इत्यादि आवश्यक दवाएं पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि उपभोगीय पीपीई किट्स और एन-95 मास्क का भी पर्याप्त भण्डारण प्रदेश में किया गया है।
 

इसे भी पढ़ें: सौहार्द एवं भाईचारे का प्रतीक लोहड़ी उत्सव

जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग के किशोरों को शतप्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य प्राप्त कर चुका है और प्रदेश सरकार ने अब स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, फ्रंट लाइन वर्कर और वरिष्ठ नागरिकों को शतप्रतिशत एहतियातन खुराक देने का लक्ष्य निर्धारित किया है। उन्होंने कहा कि राज्य में कोविड-19 के दृष्टिगत जॉंच, ट्रैकिंग और उपचार के साथ ही टीकाकरण पर विशेष बल दिया जा रहा है।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल, मुख्य सचिव राम सुभग सिंह, प्रधान सचिव राजस्व ओंकार शर्मा, प्रधान सचिव भरत खेड़ा, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक हेमराज बैरवा, विशेष सचिव सुदेश मोख्टा और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी बैठक में उपस्थित थे।
 

इसे भी पढ़ें: लोहडी ..उत्तरी भारत में धूम धाम से मनाया जाता है यह त्योहार

मुख्यमंत्री ने राज्यपाल को लोहड़ी की शुभकामनाएं दीं
मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज राजभवन में राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर को लोहड़ी की शुभकामनाएं दीं।  मुख्य सचिव राम सुभग सिंह भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने मकर सक्रांति पर शुभकामनाएं दीं
 
राज्यपाल राजेन्द्र विश्वनाथ आर्लेकर और मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने मकर सक्रांति के अवसर पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं। अपने शुभकामना सन्देश में राज्यपाल ने कहा कि यह त्यौहार सर्दियों के अन्त और फसल कटाई के मौसम का द्योतक है।   मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने मकर सक्रांति पर लोगों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इस त्यौहार का ऋतु के अनुसार और धार्मिक महत्व भी है। इस दिवस को सूर्य मकर राशि में प्रवेश करते हैं और वर्ष का यह अति शुभ दिन माना गया है। इस दिवस से उत्तरायण का प्रारम्भ भी माना गया है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि यह त्यौहार प्रदेश के लोगों के जीवन में खुशहाली और समृद्धि लाएगा।

Source Link