खरगोन हिंसा मामले में अब तक 77 गिरफ्तार, दंगाईयों का घर ध्वस्त करेगी सरकार ! CM शिवराज ने दिए सख्त कार्रवाई के संकेत

खरगोन हिंसा मामले में अब तक 77 गिरफ्तार, दंगाईयों का घर ध्वस्त करेगी सरकार ! CM शिवराज ने दिए सख्त कार्रवाई के संकेत

भोपाल। मध्य प्रदेश के खरगोन शहर में रामनवमी के जुलूस पर पथराव, कुछ वाहनों और घरों में आगजनी की घटनाओं के बाद पूरे शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया है। इस संबंध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का बयान सामने आया है। मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि रामनवमी अभूतपूर्व उत्साह के साथ मनाई गई है लेकिन खरगोन में दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई है। हम दंगाईयों को छोड़ेंगे नहीं। 

मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि दंगाईयों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की जाएगी। मध्य प्रदेश की धरती में दंगाईयों का कोई स्थान नहीं है। हमने दंगाईयों को चिह्वित कर लिया है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने पत्थर चलाया है, संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया है उन लोगों को दंडित तो किया ही जाएगा लेकिन नुकसान का आंकलन करके उनसे वसूली भी की जाएगी। हम किसी भी दंगाई को छोड़ेंगे नहीं।

मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि मध्य प्रदेश में हमने लोक एवं निजी संपत्ति को नुकसान का निवारण एवं नुकसानी की वसूली विधेयक पारित किया है। खरगोन के दंगाइयों को दंडित तो किया ही जाएगा साथ ही नुकसान की वसूली भी उनसे की जाएगी। राज्य सरकार इस हेतु क्लेम ट्रिब्यूनल का गठन कर रही है।

अब तक 77 लोगों की हुई गिरफ्तारी

नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि वर्तमान में खरगोन में शांति है और भारी संख्या में पुलिस बल तैनात हैं। उन्होंने कहा कि अब तक 77 लोग गिरफ़्तार हुए। एसपी के पैर में छर्रे लगे, उसे हम गोली भी कह सकते हैं। वे घायल हुए हैं। हमारे पुलिस के 6 ज़वान भी घायल हुए हैं। हम किसी को भी राज्य के अंदर माहौल नहीं बिगाड़ने देंगे। इसी बीच उन्होंने जोर देते हुए कहा कि जिस घर से पत्थर आए हैं उन घरों को पत्थर का ढेर बना देंगे। इस मामले में सरकार पूरी तरह से सख्त है और किसी को भी शांति व्यवस्था बिगाड़ने का कोई अधिकार है और हम इसे बिगाड़ने देंगे भी नहीं। 

बड़वानी में भी हुई हिंसा

रामनवमी के जुलूस के दौरान बड़वानी के सेंधवा में खरगोन जैसी ही हिंसा देखने को मिली, जिसमें एक थाना प्रभारी समेत 6 लोग घायल हुए हैं। बड़वानी जिले के पुलिस अधीक्षक दीपक शुक्ला ने बताया कि सेंधवा थाना प्रभारी बलदेव सिंह मुजाल्दे और पांच अन्य जोगवाड़ा रोड पर रामनवमी के जुलूस पर पथराव के दौरान घायल हो गए। पुलिस ने तुरंत स्थिति को नियंत्रित किया। उन्होंने कहा कि घटना के बाद जुलूस जारी रहा और शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुआ। इस संबंध में गृह मंत्री ने कहा कि सेंधवा में अब स्थिति सामान्य है। वहां कर्फ्यू नहीं लगाया गया है।

Source Link

DNSP NEWS

Next Post

Kasturba Gandhi birth anniversary: साए की तरह हमेशा गांधी जी के साथ रही उनकी पत्नी कस्तूरबा मोहनदास गांधी, पति के सामने ली थी अंतिम सांस

Mon Apr 11 , 2022
कस्तूरबा कपाड़िया जिनका शादी के बाद पूरा नाम कस्तूरबा मोहनदास गांधी हुआ मोहनदास करमचंद गांधी की पत्नी थी।कस्तूरबा का जन्म 11 अप्रैल 1869 में पोरबंदर में हुआ था। कस्तूरबा का जन्म एक धनी व्यापारी गोकुलदास कपाड़िया और उनकी पत्नी व्रजकुंवरबा के घर हुआ था। उनका परिवार और मोहनदास गांधी दोस्त […]

Breaking News