IPL 2021 Playoffs DC vs CSK : अनुभव के दम पर दिल्ली पर हावी होने की कोशिश करेगा चेन्नई

दुबई। बड़े मैचों में खेलने का अपार अनुभव रखने वाले खिलाड़ियों के दम पर चेन्नई सुपर किंग्स की टीम इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के रविवार को यहां होने वाले पहले क्वालीफायर में दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ जीत के मजबूत दावेदार के रूप में शुरुआत करेगी।
दिल्ली की टीम लीग में 20 अंक लेकर सबसे ऊपर रही और जिससे उनके प्रदर्शन में निरंतरता का पता चलता है। कोविड-19 के कारण टूर्नामेंट बीच में स्थगित होने के बावजूद दिल्ली ने अपनी निरंतरता बनाये रखी थी।

इसे भी पढ़ें: बीजेपी मुख्यालय में मुख्यमंत्री शिवराज ने किया चुनाव प्रबंधन कार्यलय का उद्घाटन, कांग्रेस पर साधा निशाना

चेन्नई ने पिछले साल चूकने के बाद फिर से प्लेऑफ में जगह बनायी है। उसने जिन 12 आईपीएल में हिस्सा लिया है उनमें से 11 बार उसकी टीम प्लेऑफ में पहुंची है। हालांकि आखिर में लगातार तीन मैच गंवाना उनके कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को नागवार गुजरा होगा।
दिल्ली को भी अपना पिछला मैच गंवाना पड़ा। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के कोना भरत ने अंतिम गेंद पर छक्का जड़कर दिल्ली को इस मैच में झटका दिया था। इससे उनकी स्थिति पर असर नहीं पड़ा लेकिन उसका आत्मविश्वास जरूर डिगा होगा।
चेन्नई अब तक आठ बार फाइनल में जगह बना चुका है जिनमें से तीन बार वह चैंपियन बना है। इससे पता चलता है कि टीम जरूरत के समय में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की क्षमता रखती है।
चेन्नई अपने उम्रदराज अनुभवी खिलाड़ियों पर विश्वास करता रहा है और अपनी टीम में अधिक फेरबदल भी नहीं करता है।

रुतुराज गायकवाड़ अपवाद कहे जा सकते हैं जिनके बारे में यह कहा जा सकता है कि वह पिछले एक दशक में चेन्नई सुपर किंग्स की पहली देन हैं। धोनी का सिद्धांत स्पष्ट है जो आजमाये जा चुके हैं, जिन्हें अनुभव है उन पर भरोसा रखो और यही वजह है कि उनकी टीम में रविंद्र जडेजा, अंबाती रायुडु, सुरेश रैना, ड्वेन ब्रावो और फाफ डुप्लेसिस जैसे खिलाड़ी हैं। इनके अलावा जोश हेजलवुड और मोईन अली जैसे अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी हैं और पूर्व भारतीय कप्तान धोनी को पता है कि वह किस तरह का संयोजन चाहते हैं।
धोनी जानते हैं कि वह लंबे समय से अच्छी फॉर्म में नहीं हैं। उन्होंने 14 मैचों में केवल 96 रन बनाये। आईपीएल के दिग्गज सुरेश रैना भी 12 मैचों में 160 रन ही बना पाये लेकिन उनके पास गायकवाड़ (533 रन) और डुप्लेसिस (546 रन) जैसे बल्लेबाज है जिन्होंने टीम को अक्सर ठोस शुरुआत दिलायी है।

आखिरी ओवरों में जडेजा (227) अपनी बल्लेबाजी का कमाल दिखाते रहे हैं। इसी तरह से शार्दुल ठाकुर (14 मैचों में 18 विकेट) गेंदबाजी में कमाल दिखा रहे है लेकिन ड्वेन ब्रावो (12 विकेट) हमेशा की तरह उपयोगी योगदान देने के लिये तत्पर रहते हैं। हेजलवुड फॉर्म हासिल नहीं कर पाये थे लेकिन धोनी ने उन पर भरोसा बनाये रखा। दिल्ली कैपिटल्स ने भले ही लीग चरण में 10 मैच जीते लेकिन उनकी बल्लेबाजी में वैसा आत्मविश्वास नहीं दिखा। पृथ्वी सॉव (401 रन) और शिखर धवन (544 रन) ने कुछ अच्छी पारियां खेली लेकिन यूएई चरण में उसके बल्लेबाज दबदबा नहीं बना पाये।
कप्तान ऋषभ पंत (362 रन) टुकड़ों में ही अच्छा प्रदर्शन कर पाये। मार्कस स्टोइनिस के चोटिल होने के कारण उनकी टीम का संतुलन गड़बड़ाया।

शिमरोन हेटमायर ने डेथ ओवरों में अच्छी भूमिका निभायी लेकिन कोई अन्य बल्लेबाज ऐसा नहीं कर पाया। दिल्ली का मजबूत पक्ष उसकी गेंदबाजी है। अवेश खान (22 विकेट), अक्षर पटेल (15 विकेट), कैगिसो रबाडा (13 विकेट) और एनरिच नोर्किया (नौ विकेट) ने अब तक अपनी भूमिका बहुत अच्छी तरह से निभायी है।
टीमें इस प्रकार हैं :
चेन्नई सुपर किंग्स: महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान), सुरेश रैना, अंबाती रायुडु, केएम आसिफ, दीपक चाहर, ड्वेन ब्रावो, फाफ डु प्लेसिस, इमरान ताहिर, एन जगदीसन, कर्ण शर्मा, लुंगी एनगिडी, मिशेल सेंटनर, रविंद्र जडेजा, रुतुराज गायकवाड़ , शार्दुल ठाकुर, आर साई किशोर, मोईन अली, के गौतम, चेतेश्वर पुजारा, हरिशंकर रेड्डी, भगत वर्मा, सी हरि निशांत।

दिल्ली कैपिटल्स : ऋषभ पंत (कप्तान), अजिंक्य रहाणे, पृथ्वी सॉव, रिपल पटेल, शिखर धवन, शिमरोम हेटमायर, श्रेयस अय्यर, स्टीव स्मिथ, अमित मिश्रा, एनरिक नोर्किया, अवेश खान, बेन ड्वारशुइस, इशांत शर्मा, कैगिसो रबाडा, कुलवंत खेजरोलिया, लुकमान मेरीवाला, प्रवीण दुबे, टॉम कुरेन, उमेश यादव, अक्षर पटेल, ललित यादव, मार्कस स्टोइनिस, रविचंद्रन अश्विन, सैम बिलिंग्स और विष्णु विनोद।
मैच भारतीय समयानुसार शाम सात बजकर 30 मिनट पर शुरू होगा।

Source Link

Share:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply