भारत को एथलेटिक्स के पहले ओलंपिक पदक की नीरज चोपड़ा से आस, जानिए इनके बारे में सबकुछ

खेलों के महाकुंभ टोक्यो ओलंपिक की शुरुआत होने में अब 20 दिन का समय ही बचा है। ऐसे में सभी खिलाड़ियों की तैयारी भी उनके अंतिम चरण में चल रही है। कुछ खिलाड़ी ऐसे हैं जो इस समय विदेश में ही है, ऐसे में वहीं से टोक्यो पहुंचेगे। इन खिलाड़ियों में एथलेटिक नीरज चोपड़ा का नाम भी शामिल है। आज हम आपको हमारी इस खास रिपोर्ट में बताएंगे नीरज चोपड़ा के बारे में। कौन हैं नीरज और कैसे उन्होंने एथलेटिक्स में यह मुकाम हासिल किया। आपको बता दें कि ओलंपिक में नीरज चोपड़ा उन खिलाड़ियों में से एक हैं पदक जीतकर घर वापसी करें। चलिए बताते हैं कौन हैं नीरज चोपड़ा। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना प्रोटोकॉल के बीच टोक्यो ओलंपिक मशाल रिले का चिबा चरण संपन्न 

नीरज चोपड़ा ने साल 2016 में रियो ओलंपिक से 23 जुलाई को पोलैंड में विश्व अंडर-20 चैंपियनशिप में 86.48 मीटर का थ्रो फेंक कर जैवलिन के युवा सितारे नीरज चोपड़ा ने भारत के लिए पदक जीता था। इससे पहले कभी ऐसा नहीं हुआ था। ऐसे में अब दिन के ठीक 5 साल बाद नीरज चोपड़ा टोक्यो ओलंपिक में खेलते नजर आएंगे।

हरियाणा के रहने वाले हैं नीरज चोपड़ा

यही वजह है कि नीरज से उम्मीद की जा रही है कि वे पदक जीतकर घर वापसी करेंगे। नीरज ने जब विश्व अंडर-20 चैंपियनशिप में 86.48 मीटर में खिताब जीता उस समय उनकी उम्र महज 23 साल थी। नीरज स्वीडन, पुर्तगाल और फिनलैंड जैसे देशों में आयोजित हुई प्रतियोगिता में हिस्सा ले चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: दृढ़ संकल्प और मेहनत से हासिल किया यह मुकाम, टोक्यो ओलंपिक में हिस्सा लेने वाली पीवी सिंधू के बारे में जानें 

आपको बता दें कि दुनियाभर में देश का नाम रोशन कर चुके नीरज हरियाणा के रहने वाले हैं। नीरज का कहना है कि टोक्यो ओलंपिक से पहले उनके लिए बस एक ही चीज महत्वपूर्ण है वह है स्वास्थ्य। उन्होंने कहा था कि अगर मैंने टोक्यो ओलंपिक में पूरी फिटनेस के साथ हिस्सा लिया तो पदक जीतने की संभावनाएं काफी बढ़ जाएंगी।

5 थ्रो में से 3 बार पार किया 85 मीटर का आंकड़ा
 
वहीं नीरज के अगर पिछले पांच थ्रो पर नजर डालें तो उन्होंने 85 मीटर का आंकड़ा पांच में से तीन बार पार किया है और उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 88.07मी रहा है। टोक्यो में महाकुंभ शुरु होने से पहले उनका सम्मान वेट्टर से गेट्सहेड डायमंड लीग प्रतियोगिता में होगा और वहां नीरज को वहां अपनी तैयारी का विश्लेषण करने का अच्छा मौका भी मिल जाएगा। यही सब कारण है कि नीरज चोपड़ा से एथलेटिक में ओलंपिक में पदक जीतने की उम्मीद सबसे ज्यादा की जा रही है।

Source Link

Leave a Reply