National

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच क्या बिहार में बंद होंगे स्कूल? CM नीतीश बोले- अभी यहां इतनी खराब स्थिति नहीं

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच क्या बिहार में बंद होंगे स्कूल? CM नीतीश बोले- अभी यहां इतनी खराब स्थिति नहीं

देशभर में कोरोना वायरस एक बार फिर से अपने पैर पसार रहा है। इसके साथ ही कोरोना के नए स्वरूप ओमीक्रोन ने भी लगातार चिंता बढ़ा दी है। बिहार में भी ओमीक्रोन की दस्तक हो गई है। इसके अलावा कोरोनावायरस के नए मामलों में भी वृद्धि देखी जा रही है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को बिहार में कोरोना वायरस की वर्तमान स्थिति को लेकर एक उच्च स्तरीय बैठक की और तीसरी लहर के मद्देनजर इसके नए स्वरूप ओमीक्रोन के जांच की जल्द से जल्द व्यवस्था करने के लिए भी अधिकारियों को दिशा निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि पिछले दो तीन दिनों से कोरोना संक्रमण में वृद्धि के रूख देखे जा रहे हैं, इस पर पूरी नजर रखें।

1 अणे मार्ग स्थित ‘संकल्प’ में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले पर स्वास्थ्य विभाग के साथ समीक्षा बैठक की और अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया। https://t.co/jw22cOYM8D pic.twitter.com/o45T3R5xXw

— Nitish Kumar (@NitishKumar) December 31, 2021

बिहार में शुक्रवार को 150 से ज्यादा कोरोना के मामले मिले थे। इसी को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री से सवाल किया गया कि क्या राज्य के स्कूल बंद हो सकते हैं और बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लास शुरू की जा सकती है? इसके जवाब में नीतीश कुमार ने कहा कि हम लोग लगातार इसका आकलन कर रहे हैं। अभी हम लोगों के यहां इतनी खराब स्थिति नहीं है। जल्द ही इसका आकलन कर निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने कहा ,‘‘410 करोड़ कोरोना टीका का डोज दिया जा चुका है। यह हम सबों के लिये खुशी की बात है।’’ 

  समीक्षा बैठक के दौरान स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने प्रस्तुतीकरण के माध्यम से कोरोना के बढ़ते मामले तथा उससे बचाव को लेकर की जा रही तैयारियों के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने देश में ओमीक्रोन की राज्यवार स्थिति, राज्य में पिछले आठ दिनों का प्रतिदिन जांच और संक्रमणदर आदि के संबंध में जानकारी दी। स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव ने बताया कि सभी जिलों के लिये नोडल अधिकारी बनाये गये हैं, जो एक-एक चीज पर नजर रखेंगे। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार स्पीड पोस्ट के माध्यम से कोविड गृह पृथक-वास मेडिकल कीट लोगों के घर तक पहुँचाया जायेगा जिसमें घरों पर ही पृथक-वास में रहने वाले मरीजों के लिये दवा के उपयोग की विधि एवं सावधानी के बारे में जानकारी भी लिखी रहेगी। 

Source Link