National

Vaccination के लिए 15-18 साल के किशोरों का शुरू हुआ रजिस्ट्रेशन, मंडाविया बोले- बच्चे सुरक्षित, तो ही देश का भविष्य सुरक्षित

Vaccination के लिए 15-18 साल के किशोरों का शुरू हुआ रजिस्ट्रेशन, मंडाविया बोले- बच्चे सुरक्षित, तो ही देश का भविष्य सुरक्षित

नयी दिल्ली। दिल्ली में 15-18 आयु वर्ग के बच्चों के टीकाकरण के लिए पंजीकरण शनिवार से शुरू हो गया, क्योंकि यहां के केंद्रों ने तीन जनवरी से किशोरों का टीकाकरण शुरू करने की तैयारी कर ली गयी है। सूत्रों द्वारा साझा किए गए आधिकारिक दस्तावेजों के मुताबिक भारत के महापंजीयक के आंकड़ों के अनुसार इस श्रेणी में टीकाकरण कराने वाले किशोरों की संख्या 10 लाख है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हम रोज तीन लाख लोगों का टीकाकरण कर सकते हैं। मौजूदा समय में दैनिक आधार पर एक से डेढ़ लाख लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है। अगर जरूरत पड़ी तो हम क्षमता बढा सकते हैं। बच्चों के टीकाकरण का जहां तक सवाल है, हमलोग 10 से 15 दिन की अवधि के भीतर उनलोगों का टीकाकरण कर सकते हैं।’’

बच्चे सुरक्षित, तो देश का भविष्य सुरक्षित!

नववर्ष के अवसर पर आज से 15 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों के #COVID19 टीकाकरण हेतु COWIN पोर्टल पर रेजिस्ट्रेशन शुरू किए जा रहें है।

मेरा परिजनों से आग्रह है की पात्र बच्चों के टीकाकरण हेतु उनका रेजिस्ट्रेशन करें। #SabkoVaccineMuftVaccine

— Dr Mansukh Mandaviya (@mansukhmandviya) January 1, 2022

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने ट्विटर के माध्यम से लोगों से अनुरोध किया कि वह टीकाकरण के लिए अपने परिवारों के पात्र किशोरों का पंजीकरण कराएं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘नववर्ष के अवसर पर आज (शनिवार) से 15 वर्ष से 18 वर्ष की आयु के बच्चों के कोविड-19 रोधी टीकाकरण के लिए कोविन पोर्टल पर पंजीकरण शुरू किया जा रहा है। मेरा परिजनों से आग्रह है कि पात्र बच्चों के टीकाकरण के लिए उनका पंजीकरण कराएं।’’ 

मंत्री ने ट्वीट किया सबको टीका, मुफ्त टीका। उल्लेखनीय है कि 15 वर्ष से 18 वर्ष के लाभार्थियों के लिए टीकाकरण तीन जनवरी से शुरू हो जाएगा। किशोरों को लगने वाले टीकों और साठ साल या उससे अधिक आयु के लोगों को दिये जाने वाली एहतियाती खुराक संबंधी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशा निर्देश के अनुसार 15-18 आयु वर्ग के लाभार्थियों के लिए टीके का विकल्प केवल कोवैक्सीन होगा। आधिकारिक दस्तावेजों के अनुसार, 29 दिसंबर की सुबह तक दिल्ली सरकार के पासटीकों की 21.53 लाख खुराक थी।

Source Link