2021 के J&K को 1990 का कश्मीर बनाने की साजिश पर बड़े एक्शन की तैयारी, आतंकियों के टारगेट किलिंग के बाद अब अमित शाह की बारी

नवरात्रि शक्ति और शांति का पर्व है। लेकिन इसकी शुरुआत के साथ ही कश्मीर में हिन्दुओं का खून भी बहने लगा है। कश्मीर में पिछले कुछ दिनों में ही बीते एक हफ्ते के अंदर अलग-अलग आतंकवादी हमलों में 7 लोगों की मौत हो चुकी है। यहां पर जो हत्याएं हो रही हैं वो धर्म के आधार पर हो रही हैं। कश्मीर में हिन्दुओं और सिखों को अब चुन-चुनकर मारा जा रहा है। लेकिन अब मोदी सरकार श्रीनगर की टारगेट किलिंग की बढ़ती घटना के बाद बड़े एक्शन की तैयारी में है। जम्मू कश्मीर में आतंकी घटना की बढ़ती वारदातों के बाद देश के गृह मंत्री अमित शाह ने जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल को दिल्ली बुलाया। 

सूत्रों की माने तो गृह मंत्री अमित शाह और जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा की मुलाकात के साथ ही एमएचए ने देश की तमाम सुरक्षा एजेंसियों के टॉप एस्पर्ट को कश्मीर भेज दिया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल सोमवार को श्रीनगर लौट सकते हैं। रिपोर्ट के अनुसार सुरक्षा बल आतंकियों के खिलाफ एख बड़ा अभियान शुरू कर सकते हैं। इससे पहले अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर की स्थिति को लेकर अपने मंत्रालय के एनएसए अजित डोभाल और बीएसएफ और सीआरपीएफ चीफ के साथ बैठक की थी।

इस हफ्ते अब तक 7 लोगों को मौत के घाट उतारा

आतंकियों ने जम्मू कश्मीर के श्रीनगर में पिछले पांच दिनों के भीतर चौथा टारगेट अटैक किया है। वहीं इस हफ्ते अब तक 7 लोगों को मौत के घाट उतारा जा चुका है। सात में से चार अल्पसंख्यक हिंदू और सिख समुदाय से थे। इनमें से छह मौतें श्रीनगर में हुई हैं। श्रीनगर के ईदगाह स्थित गवर्नमेंट बॉयज हायर सेकेंडरी स्कूल की प्रिंसिपल सुपिंदर कौर और दीपक चंद की गुरुवार सुबह करीब 11:15 बजे स्कूल परिसर में गोली मारकर हत्या कर दी गई। सूत्रों का कहना है- ‘हम हिंसा की घटनाओं के पैटर्न में बदलाव देख सकते हैं। वो स्पष्ट संदेश देना चाहते हैं कि गैरमुस्लिम समुदायों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

Source Link

Share:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply