Prabhasakshi’s Newsroom । J&K में रेलवे का सपना पूरा करने के लिए तेजी से हो रहा काम

ऊधमपुर-बनिहाल-बारामूला रेल सेक्शन में काम तेजी के साथ चल रहा है। ऐसे में साल 2023 की शुरुआत तक रेलगाड़ी से बारामूला तक पहुंचने की संभावना जताई गई। कश्मीर को बाकी के हिस्सों से जोड़ना बेहद अहम परियोजनाओं में से एक है। इसी दिशा में रेल मंत्री अश्विनी वैष्पण ने जानकारी दी। वहीं कोरोना वायरस संक्रमण के मामले कम होने का मनाम ही नहीं ले रहे हैं। इसी बीच एक सीरो सर्वे के आंकड़े की जानकारी मिली जो चौंका देने वाली थी और जाते-जाते हम बार करेंगे गुजरात की। 

इसे भी पढ़ें: जानिए कौन हैं राजा राजा महेंद्र प्रताप सिंह और क्या है उनका काबुल कनेक्शन, PM मोदी जिनके नाम पर यूनिवर्सिटी का करेंगे शिलान्यास


बारामूला तक दौड़ेंगी ट्रेनें !

कश्मीर को रेलवे के माध्यम से देश के बाकी हिस्सों से जोड़ना अपने आपमें काफी अहम है। इस दिशा की तरफ मोदी सरकार आगे बढ़ रही है। केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि कश्मीर और देश के बाकी हिस्सों के बीच रेल संपर्क देखना देश का सपना है। वैष्णव ने साथ ही इस बात पर जोर दिया कि प्रतिष्ठित परियोजना पर कार्य तेज गति से चल रहा है और जल्द पूरा होगा।

अश्विनी वैष्णव कटरा में थे जो रियासी जिले में माता वैष्णो देवी मंदिर जाने वाले तीर्थयात्रियों का आधार शिविर है। उन्होंने वहां पर एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया और दो नए रेलवे प्लेटफॉर्म और अतिरिक्त सुविधाओं के निर्माण की नींव रखी।

इसी बीच उन्होंने कहा जम्मू-बारामूला रेल लिंक के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यह देश का सपना है और इस परियोजना पर काम तेजी से हो रहा है। विभिन्न पुलों और अन्य लिंकिंग क्षेत्र पर काम तेज गति से चल रहा है ताकि लाइन पर जल्द ही चलना शुरू हो जाए। 

इसे भी पढ़ें: 24 सिंतबर को क्वाड समिट, UNGA डिबेट में शामिल होने अमेरिका जाएंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 


क्या आ गई है कोरोना की तीसरी लहर ?

कोरोना वायरस संक्रमण के लगातार बढ़ रहे मामलों के बीच में कई तरह के चौंका देने वाले दावे सामने आ रही है। चीन के वुहान शहर से फैले कोरोना वायरस से भारत समेत दुनिया का हर देश प्रभावित हुआ है। भारत में तो दूसरी लहर अभी कमजोर ही पड़ी थी कि तीसरी लहर आने की संभावनाएं तेज हो गईं।

वहीं काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के डॉक्टर वीएन मिश्रा और डॉक्टर अभिषेक पाठक ने दावा किया कि गंगा जल कोविड-19 के इलाज में कारगर साबित हो सकता है। दोनों विशेषज्ञों ने कहा कि हिमालय के गंगोत्री से निकलने वाली गंगा में‘‘बैक्टीरियोफेज’’ की प्रचुर मौजूदगी होती है। बैक्टीरियोफेज शब्द का अर्थ बैक्टीरिया को नष्ट करने वाला होता है। गंगा नदी में पाए जाने वाले बैक्टीरियोफेज बैक्टीरिया और रोगाणुओं को नष्ट कर देते हैं जिससे गंगा नदी के जल की शुद्धता बरकरार रहती है।

गंगा नदी में बैक्टीरियोफेज की उपस्थिति के संबंध में विशेषज्ञों ने बताया कि गंगा जल में करीब 1300 प्रकार के बैक्टीरियोफेज की पुष्टि हुई है जो किसी भी नदी की तुलना में अधिक है। 

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान के विदेश मंत्री कुरैशी ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अफगानिस्तान के साथ निरंतर जुड़ाव का आह्वान किया

वहीं, पीजीआईएमईआर के निदेशक प्रोफेसर जगत राम ने कहा कि भारत कोरोना की तीसरी लहर की शुरुआत में है। आपको बता दें कि पीजीआईएमईआर में एक सीरोसर्वे किया गया था जिसमें 2700 बच्चों के सेम्पल कलेक्ट किए गए थे। उनमें से 71 फीसदी में एंटीबॉडी विकसित हो चुकी है।


क्या नितिन पटेल को मिलेगा उपमुख्यमंत्री पद ?

भाजपा के टिकट पर पहली बार विधायक बने भूपेंद्र पटेल ने गुजरात के 17वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ले ली है। विजय रूपाणी ने दो दिन पहले मुख्यमंत्री पद से अचानक इस्तीफा दे दिया था। राज्य में लगभग सवा साल बाद विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में पार्टी भूपेंद्र पटेल के नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी।

वहीं विजय रूपाणी सरकार में उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने भूपेंद्र पटेल के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने से पहले कहा था कि मैं नाराज नहीं हूं। मुझे पार्टी में कोई पद मिले या न मिले, मैं पार्टी में काम करता रहूंगा।

Source Link

Share:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply