नीतीश ने भी माना कोयले की है कमी, कहा- राज्य में बिजली संकट नहीं होने दिया जाएगा

देश में लगातार कोयला आपूर्ति कम होने की वजह से ऊर्जा संकट की आशंका जताई जा रही है। विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी इस बात को माना है कि वर्तमान में कोयला आपूर्ति बाधित होने की वजह से बिजली संकट पैदा हो सकती है। पटना में भी आज बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इसी बात को लेकर सवाल किया गया सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले जितनी आपूर्ति कोयले की होती थी, उतनी नहीं हो पा रही है इसलिए बिजली उत्पादन प्रभावित है। हालांकि, उन्होंने राज्य वासियों को इस बात के लिए आश्वस्त किया कि स्थानीय स्तर पर बिजली संकट नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार ऊंची कीमतों पर दूसरे निजी कंपनियों से बिजली खरीद कर लोगों के बीच आपूर्ति कर रही है।

 

 

मुख्यमंत्री ने क्या कहा
मुख्यमंत्री ने कहा कि जितनी बिहार की ज़रूरत है उस हिसाब से या तो हमें NTPC से मिलता है या फिर प्राइवेट कंपनियों से लेते थे। इन कंपनियों से जितनी आपूर्ति का प्रावधान था, वह नहीं हो पा रही है। इसके चलते समस्या आई है। उन्होंने कहा कि यह बात बिल्कुल सही है कि समस्या है। जहां से आपूर्ति होती थी वहां उनका उतना उत्पादन नहीं है। कोई कारण हैं जिसके चलते ऐसी स्थिति पैदा हुई है। ऐसा नहीं है कि यह सिर्फ बिहार की स्थिति है, यह सब जगह की स्थिति है। इससे पहले उत्तर प्रदेश, दिल्ली और पंजाब के मुख्यमंत्रियों ने भी बिजली संकट को लेकर केंद्र सरकार से मदद मांगी है। विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कोयले की आपूर्ति सामान्य करने और प्रदेश को अतिरिक्त बिजली उपलब्ध कराने का भी आग्रह किया है। 
गृह मंत्री ने बुलाई आपात बैठक
देश में कोयले की कमी के कारण बिजली संकट पैदा होने की आशंका जताई जा रही है। इसी बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आपात बैठक बुलाई। इस बैठक में ऊर्जा मंत्री आरके सिंह, कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी समेत कई पदाधिकारी मौजूद रहे। इसके अलावा बैठक में नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन (एनटीपीसी) के अधिकारी भी शामिल हुए। 

Source Link

Share:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply