National

2022 की शुरुआत में कालसर्प दोष, नये साल में भारी उलटफेर के संकेत दे रहा

2022 की शुरुआत में कालसर्प दोष, नये साल में भारी उलटफेर के संकेत दे रहा

शिमला । नये साल 2022 का आगमन हो रहा है। 31 दिसंबर 2021 की रात बीते साल को विदाई देने के साथ ही नये साल का स्वागत किया जाएगा। पिछले दो सालों में कोरोना जैसी महामारी से लोग जूझते रहे हैं, ऐसे में सभी चाहते हैं कि आने वाले साल में इस बीमारी से पूरी तरह मुक्ति मिले साथ ही सभी के जीवन में खुशहाली आए।   ज्योतिष के अनुसार आने वाला समय अच्छा रहेगा या परेशानियों से घिरे रहेंगे, ये सब ग्रहों की दशा तय करती है। अब बात करें 2022 की तो इस साल की शुरुआत में ही कालसर्प योग बन रहा है, इसकी वजह से आने वाले समय में भारी उलटफेर के संकेत मिल रहे हैं। 2021 की रात्रि व साल 2022 की शुरुआत में कालसर्प दोष, नये साल में भारी उलटफेर के संकेत दे रहा है। शत्रु देशों से  टकराव बढ़ेगा।  इस साल आर्थिक मामलों में राहत रहेगी। नये साल 2022 की कुंडली में ग्रहों की स्थिति भारी उलटफेर के संकेत दे रही है। हालांकि, व्यापार में सुधार और महंगाई में राहत मिलने की उम्मीद है। ज्योतिष के अनुसार, नये साल की कुंडली में काल सर्प दोष विद्यमान है, जो बड़ी चिंता का विषय है।   वशिष्ठ ज्योतिष सदन के अध्यक्ष व ज्योतिष व अंक ज्योतिष मे माहिर पंडित शशिपाल डोगरा ने बताया कि काल सर्प दोष की वजह से राजनीतिक दलों में आपसी टकराव बढ़ेगा। राजनीति दल देश एवं देशवासियों के हितों के बजाय अपने-अपने हित साधने में अत्यधिक लगे रहेंगे।   

ज्योतिषाचार्य पंडित शशिपाल डोगरा ने बताया कि वर्ष 2022 की जन्म कुंडली में कन्या लग्न बन रहा है व ज्येष्ठा नक्षत्र के प्रथम चरण से शुरू हो रहा है। तृतीय भाव में मंगल, चन्द्रमा, केतु, चतुर्थ भाव में है सूर्य, शुक्र, पंचम भाव में हैं। बुध, शनि षष्ठम भाव में और नवम भाव में राहु स्थिति है।ग्रहों की इस स्थिति के हिसाब से नये साल की कुंडली में कालसर्प दोष बन रहा है। काल सर्प योग हमेशा संघर्ष देता है। चंद्रमा का नीच का बैठना जहां मानसिक तनाव देता है। लोग तनाव मे अधिक रहेंगे।  

पंडित डोगरा ने बताया कि देश के लिए ग्रहों की ये चाल शुभ नहीं मानी जा रही है। राजनीतिक दलों में आपसी टकराव बढ़ेगा। राजनीति दल देश एवं प्रदेशवासियों के हितों के बजाय अपने अपने हित साधने में ज्यादा लगे रहेंगे। इसके अलावा शत्रु देश अवसर को देख किसी बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं, जिससे आमजन को भय एवं चिन्ता हो सकती है। आर्थिक दृष्टि से साल 2022 आर्थिक दृष्टि से पिछले सालों की अपेक्षा बेहतर रहेगा। महामारी अभी रुकने का नाम नहीं लेगी। परन्तु ग्रह चाल वजह से जो व्यवस्थाएं गड़बड़ाईं थीं। उनमें इस साल राहत मिलने की पूरी उम्मीद लग रही है।साफ शब्दों में समझें तो पहले से हालात बेहतर होने की पूरी संभावना है। उन्होंने बताया कि व्यापार में सुधार, रोग मुक्त,  रोजगार के अवसर बढ़ेगे, मंहगाई कम होगी, वर्षा अच्छी होगी, लोगों की आर्थिक स्थिति में सुधार होने की संभावना ज्यादा रहेगी।  

अंक ज्योतिष के हिसाब हमारे जीवन में अंकों का बड़ा विशेष महत्त्व है। हमारे जीवन में अंकों का प्रभाव कहीं न कहीं जरूर पड़ता है। वर्ष 2022 का 2+0+2+2=6 अंक जो शुक्र का अंक है। शुक्र सौंदर्य का कारक है, विलासता का कारक है, स्त्री का कारक है, आंखों का कारक है। इस वर्ष लोग विलासता में अधिक  व्यस्त रह सकते हैं। जहां इस वर्ष महिलाओं का प्रभाव बहुत अधिक बढ़ेगा। वहीं राजनीति में महिलाओं के कारण बड़ी उथल-पुथल के संकेत देता है, 2022 में शुक्र के कारण महिलाओं को बीमारी का योग भी बहुत अधिक बनता है। महिलाओं में शुक्र के कारण सत्ता प्राप्ति की लालसा अधिक बढ़ेगी। वह कुछ महिलाओं के अंहकार के कारण के कारण निचा भी देखना पड़ सकता है। 2022 में जहां कुछ अंकों 2,4,8 व 9 के लिए शुभ है तो वही 1,3,5 व 7 अंकों को परेशानी में डाल देगा। इस वर्ष 2022 में 2 अंक का बार-बार आना लोगों को भावुकता अधिक दे सकता है।  

Source Link