National

जनता हमारे काम से संतुष्ट नहीं तो हमारे काम का क्या मतलब: CM शिवराज

भोपाल। मध्य प्रदेश में बैठकों का सिलसिला जारी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने आज कई विभागों की बैठक ली। ऊर्जा विभाग की बैठक में मुख्यमंत्री ने नाराजगी जाहिर की है। नाराज होते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि फीडर सेपरेशन के काम की गुणवत्ता की शिकायतें मिली हैं उसे ठीक करें। जनता हमारे काम से संतुष्ट नहीं तो हमारे काम का क्या मतलब ?

दरअसल शिवराज ने निर्देश दिए हैं कि आने वाले 5 से 10 साल में बिजली की आपूर्ति कैसे और कहाँ से करेंगे, वो रणनीति बनाए। जनता हमारे काम से संतुष्ट होने चाहिए। बिजली विभाग के प्रति जनता का असंतोष कैसे दूर हो, इस पर ध्यान दीजिए। और बेस्ट प्रेक्टिस वाले राज्यों का अध्ययन कर योजना तैयार कीजिए।

वहीं बिजली विभाग की बैठक में फीडर सेपरेशन के काम को लेकर मुख्यमंत्री नाराज दिखे। उन्होंने कहा कि फीडर सेपरेशन के काम की गुणवत्ता की शिकायतें मिली हैं, ठीक करें। जनता की समस्याओं को जानें उसके अनुरूप कार्य करें।

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी के आंकड़ों पर मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि मप्र में बेरोजगारी सबसे कम है। इसका कारण कोरोनाकाल में भी प्रदेश में उद्योग लगाना और निवेश आना रहा है। 2019 से करीब 40 प्रतिशत अधिक है। विपरीत परिस्थिति में भी रोजगार बढ़े हैं।

उन्होंने आगे कहा कि स्वामी विवेकानंद जयंती को रोजगार दिवस के रूप मनाया जाएगा। 12 जनवरी को लगभग 3 लाख लोगों को लोन दिया जाएगा। और इसके साथ ही रोजगार के लिए लोन दिए जाएंगे।

Source Link