कोरोना गाइड लाइन को ध्यान में रखकर इसबार होगी स्वर्णमयी माँ अन्नपूर्णा के दर्शन

कोरोना गाइड लाइन को ध्यान में रखकर इसबार होगी स्वर्णमयी माँ अन्नपूर्णा के दर्शन

वाराणसी। प्रत्येक वर्ष धनतेरस से शुरू होने वाली स्वर्णमयी माँ अन्नपूर्णा का दर्शन इस वर्ष 02 नवंबर से यानी धनतेरस पर्व से शुरू होगा। जो 05 नवंबर अन्नकूट पर्व तक चलेगा। दर्शन-पूजन और आयोजन के संदर्भ में गुरुवार को बांसफाटक स्थित श्रीकाशी अन्नपूर्णा अन्नक्षेत्र ट्रस्ट के दुसरीं शाखा के सभागार में एक पत्रकार वार्ता का आयोजन किया गया। जिसमें महंत शंकरपुरी ने बातचीत में  बताया कि इस वर्ष भी पूरा विश्व कोरोना महामारी जूझ रहा है। बाबा विश्वनाथ और मां भगवती के आशीर्वाद से अब सारी व्यवस्थाएं धीरे-धीरे पटरी पर आ गई है, लेकिन  खतरा अभी भी टला नहीं है।   

  उन्होंने आगे बताया कि धनतेरस  02 नवंबर से शुरू हो रहे स्वर्णमयी अन्नपूर्णा के दर्शन के दौरान कोविड-19 के बचाव के लिए जारी गाइडलाइन का पालन कराते  हुए ही  भक्तों को दरबार में प्रवेश दिया जाएगा। इसके साथ ही सभी कोरोना प्रोटोकॉल को पूरा करते हुए भक्त मन्दिर के प्रथम तल पर स्थित माता  के भव्य दर्शन करेंगे और इतना ही नही गेट पर ही माता का खजाना और लावा वितरण का कार्यक्रम भक्तों में किया जाएगा। केवल पहले दिन ही  भक्तों को पीछे के रास्ते से राम मंदिर परिसर से होते कालि मन्दिर के  प्रबन्धक काशी मिश्रा ने बताया कि सुरक्षा की दृष्टि से मंदिर में जगह-जगह वालेंटियर तैनात किए जाएंगे।  

  थर्मल स्कैनिंग और हैंड सेनेटाइजेशन के बाद भक्तों को माता के दरबार में प्रवेश दिया जाएगा। सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जाएगा और इन नियमों का पालन करते हुए भक्तों को प्रवेश दिया जाएगा। सुरक्षा की बात करे तो मन्दिर परिसर में दो दर्जन सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे इसके साथ ही  मेडिकल की व्यवस्था भी रहेगी। स्वर्णमयी माँ अन्नपूर्णा का छोटी दीपावली से अन्नकूट पर्व तक के दर्शन भोर में 4 बजे से रात्रि 11 बजे तक होगा। इसके साथ वीआईपी लोगो के लिए वीआईपी समय शाम 5 से 7 रहेगा। वृद्ध और दिव्यांगों के लिए दर्शन की सुगम व्यवस्था रहेगी। इस प्रेसवार्ता के दौरान प्रो रामनरायण द्विवेदी समेत मन्दिर परिवार सदस्य मौजूद रहे।

Source Link