हिंदुओं के खिलाफ विवादित बयान देने वाले मौलाना ने कांग्रेस से किया गठबंधन, संबित पात्रा बोले- धिक्कार है

हिंदुओं के खिलाफ विवादित बयान देने वाले मौलाना ने कांग्रेस से किया गठबंधन, संबित पात्रा बोले- धिक्कार है
हाल में ही इत्तेहाद मिल्लत काउंसिल के अध्यक्ष मौलाना तौकीर रजा खां ने कांग्रेस के समर्थन का ऐलान किया था। हालांकि अब तौकीर रजा खां का समर्थन ही कांग्रेस के लिए मुसीबत बनती जा रही है। दरअसल, तौकीर रजा खान का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें वह देश के हिंदुओं को धमकी देते सुनाई दे रहे हैं। भाजपा ने इस वीडियो को अब मुद्दा बना लिया है और कांग्रेस पर निशाना साध रही है। पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने वीडियो को साझा करते हुए कहा कि इस मौलाना की पार्टी से कांग्रेस ने गठबंधन किया है। धिक्कार है। इसके साथ ही संबित पात्रा ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के बीच प्रतिस्पर्धा चल रही है कि हिंदुओं के खिलाफ ज्यादा घृणा कौन उगल सकता है और हिंदुओं के खिलाफ बोलने वालों को कौन सी पार्टी प्रश्रय दे सकती है।

संबित पात्रा ने आगे कहा कि मीडिया ने इन्हीं मौलाना के वीडियो को दिखाया था, जिसमें वो हिंदुओं के खिलाफ जहर उगल रहे थे। वे कह रहे थे कि अगर कानून व्यवस्था उनके जवानों के हाथ में आ जाए तो हिंदुओं को हिंदुस्तान में रहने की जगह तक नहीं मिलेगी। वे ये भी करते हैं कि हिंदुस्तान का नक्शा तक बदल देंगे। इस वीडियो को साझा करते हुए भाजपा प्रवक्ता ने तौकीर रजा खां के बयान को लिखा है। इसके साथ ही उन्होंने समजावादी पार्टी पर भी निशान साधा। उन्होंने कहा कि दो समुदायों के बीच लगातार जहर उगलना, दो समुदायों को किस प्रकार से दंगों में झोंकना यही असलम चौधरी विधानसभा धौलाना का काम रहा है। असलम चौधरी को भी समाजवादी पार्टी ने प्रमोट किया है।

संबित पात्रा ने ने कहा कि कैराना से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी नाहिद हसन के खिलाफ भाजपा ने आवाज उठाई थी, आज वो जेल में हैं। ये वही नाहिद हसन हैं जिसने हिंदुओं के खिलाफ जहर उगला था और कैराना से हिंदुओं के पलायन के लिये जिम्मेदार थे। मोहर्रम अली पप्पू को समाजवादी पार्टी द्वारा टिकट दिया गया है और ये सहारनपुर गुरुद्वारा हिंसा के मास्टरमाइंड है। गुरुद्वारे में किस प्रकार से हिंसा करवाई थी मोहर्रम अली ने ये हम सभी ने देखा है। उन्होंने तंज भरे लहजे में कहा कि यूपी में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के बीच प्रतिस्पर्धा चल रही है कि हिंदुओं के खिलाफ ज्यादा घृणा कौन उगल सकता है और हिंदुओं के खिलाफ बोलने वालों को कौन सी पार्टी प्रश्रय दे सकती है। 

Source Link

DNSP NEWS

Next Post

झांकी न शामिल करने के लिए केंद्र की आलोचना गलत परम्परा, संघीय ढांचे को होगा नुकसान

Tue Jan 18 , 2022
हर साल दिल्ली में होने वाले गणतंत्र दिवस परेड को लेकर देश के सभी राज्य अपनी अपनी झांकियों के लिए दावेदारी पेश करते हैं। इन्हीं में से कुछ राज्यों की झांकियों को मंजूरी दी जाती है जबकि कुछ को अगले साल के लिए कहा जाता है। इस साल भी कुछ […]

Breaking News