असम-मेघालय सीमा विवाद को लेकर के दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने की बैठक

गुवाहाटी। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा और मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने दोनों राज्यों के बीच लंबे समय से चल रहे अंतर-राज्यीय सीमा विवाद को सौहार्दपूर्ण ढंग से हल करने के लिए ‘‘व्यावहारिक दृष्टिकोण’’ अपनाने का शुक्रवार को फैसला किया। दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने शुक्रवार शाम शिलांग में मुलाकात की, जिसमें संगमा ने मेघालय से संबंधित 12 विवादित स्थानों के राज्य के भूक्षेत्र में आने का दावा किया, जबकि सरमा ने दस्तावेजों के साथ यह साबित किया कि वे स्थान असम से संबंधित हैं। एक आधिकारिक सूत्र के अनुसार, विस्तृत चर्चा के बाद, दोनों राज्य सरकारों ने ‘‘व्यावहारिक दृष्टिकोण’’ अपनाने और यथास्थिति से समाधान की ओर बढ़ने का फैसला किया। सूत्र के अनुसार सभी 12 स्थानों पर एक-एक करके चर्चा करने और दावों की समीक्षा करने पर सहमति बनी और यदि संभव हुआ तो दोनों मुख्यमंत्री सभी स्थानों का दौरा करेंगे। इसके अलावा, सरमा ने मेघालय के मुख्यमंत्री संगमा को छह अगस्त को गुवाहाटी में दूसरे दौर की चर्चा के लिए आमंत्रित किया।

इसे भी पढ़ें: असम में पहले चरण में केवल गुवाहाटी में होगी शराब की ऑनलाइन बिक्री

सरमा ने बाद में मीडियाकर्मियों से कहा कि यह एक बहुत ही सार्थक चर्चा थी और ‘‘हमारे बीच एक आम समझ बनी कि हम सीमा विवाद को हल करने के लिए दृढ़ और प्रतिबद्ध रहे।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि परस्पर विरोधी दावों को देखते हुए अधिक चर्चा और समीक्षा की जाएगी ताकि स्थायी समाधान निकाला जा सके। संगमा नेसरमा को उनकी यात्रा और सीमा विवाद पर बातचीत को आगे बढ़ाने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, ‘‘क्योंकि यह एक लंबे समय से लंबित मुद्दा है, इसलिए दोनों राज्यों के लिए एक सौहार्दपूर्ण और स्वीकृत समाधान के लिए चर्चा के साथ-साथ इसमें कुछ और समय लगेगा।

Source Link

Share:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply