येदियुरप्पा के बाद अनुसूचित जाति के किसी नेता को मुख्यमंत्री बनाए भाजपा: सिद्धरमैया

मंगलुरु। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धरमैया ने बी एस येदियुप्पा के इस्तीफे की अटकलों के बीच कर्नाटक में सत्तारूढ़ भाजपा को शुक्रवार को अनुसूचित जाति समुदाय के किसी नेता को मुख्यमंत्री बनाने की चुनौती दी। सिद्धरमैया ने कहा, नलिन कुमार कतील (भाजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष) ने मुझे चुनौती देते हुए कहा था कि सिद्धरमैया किसी दलित को मुख्यमंत्री (पद का चेहरा) घोषित करें। हमारी पार्टी से अनुसूचित जाति के चार नेता अतीत में मुख्यमंत्री रह चुके हैं। इनमें महाराष्ट्र में शिंदे (सुशील कुमार शिंदे), जगन्नाथ पहाड़िया-राजस्थान और दामोदरम संजीवैय्या-आंध्र प्रदेश शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान में मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से 1.3 करोड़ से अधिक परिवार जुड़े

सिद्धरमैया ने यहां पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि कतील के पास अनुसूचित जाति के किसी व्यक्ति को मुख्यमंत्री पद का चेहरा घोषित करने का मौका है।
उन्होंने कहा, खैर, येदियुरप्पा को (मुख्यमंत्री पद से) हटा दिया जाएगा, अब उनके (भाजपा) के लिए एक अवसर है, वे ऐसा कर सकते हैं। वैसे भी येदियुरप्पा के जाने के बाद सीट (मुख्यमंत्री सीट) खाली हो जाएगी। अगर उन्हें अनुसूचित जाति से प्रेम है और वे ऐसा कर सकते हैं तो उन्हें करने दें।वे (भाजपा) सामाजिक न्याय का सम्मान नहीं करते, लेकिन दूसरों से सवाल करते हैं।

इसे भी पढ़ें: समाजवादी पार्टी द्वारा महंगाई के विरोध में वाराणसी में किया गया विरोध प्रदर्शन

येदियुरप्पा ने नेतृत्व में बदलाव को लेकर बढ़ती अटकलों के बीच बृहस्पतिवार को इस बात का संकेत दिया था कि वे मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे सकते हैं। उन्होंने कहा था कि वह भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के आदेश का पालन करेंगे। येदियुरप्पा (78) ने कहा था कि पार्टी आलाकमान कर्नाटक के मुख्यमंत्री के तौर पर उनके भविष्य के बारे में 25 जुलाई को उन्हें निर्देश देगा। येदियुरप्पा सरकार के दो साल 26 जुलाई को पूरे हो जाएंगे।

Source Link

Share:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply