ममता के खिलाफ हुंकार भरने से पहले प्रियंका ने लिया मां काली का आशीर्वाद, TMC पर साधा निशाना

पश्चिम बंगाल में 3 सीटों पर 30 सितंबर को उपचुनाव होने है। मुख्यमंत्री बने रहने के लिए ममता बनर्जी को विधायक बनना जरूरी है। ऐसे में वह भवानीपुर से उपचुनाव लड़ रही हैं। भवानीपुर उनकी पारंपरिक सीट रही है। लेकिन इस बार के विधानसभा चुनाव में वह नंदीग्राम से लड़ी थीं जिसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा। भवानीपुर से भी भाजपा ने ममता को एक बार फिर से शिकस्त देने की योजना बना ली है। इसी के तहत भाजपा ने भवानीपुर से ममता के खिलाफ प्रियंका टिबरीवाल को चुनावी मैदान में उतारा है। चुनाव प्रचार शुरू करने से पहले आज प्रियंका टिबरीवाल कोलकाता के काली घाट मंदिर में मां काली का आशीर्वाद लेने पहुंचीं।

 

मां काली का दर्शन करने के बाद प्रियंका टिबरीवाल ने ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा। प्रियंका टिबरीवाल ने कहा कि यहां जो अन्याय हुआ है, उसके खिलाफ लोगों की रक्षा के लिए मां काली से प्रार्थना करने आई हूं। मेरी लड़ाई सत्ता में उस पार्टी के खिलाफ है जिसने जनता के खिलाफ अन्याय और हिंसा को बढ़ावा दिया है। कल से चुनाव प्रचार शुरू करूंगी। प्रियंका टिबरीवाल ने कहा कि राज्य विधानसभा चुनावों के बाद तणमूल कांग्रेस (टीएमसी) द्वारा की गई “प्रताड़ना व हिंसा” को उजागर करना चुनाव में उनका एक प्रमुख मुद्दा होगा। टिबरीवाल ने कहा, “वह (ममता बनर्जी) नंदीग्राम से पहले ही हार चुकी हैं। अब वह मुख्यमंत्री की कुर्सी बचाने के लिये यह चुनाव लड़ रही हैं। मेरा काम क्षेत्र के लोगों तक पहुंचकर उन्हें, विधानसभा चुनाव के बाद उनकी पार्टी द्वारा विपक्षी कार्यकर्ताओं के खिलाफ की गई ज्यादती, यातना और हिंसा के बारे में जानकारी देना है। मुझे विश्वास है कि भवानीपुर के लोग मेरे लिए वोट करेंगे और उन्हें हराएंगे।” 
टिबरीवाल भारतीय जनता पार्टी की युवा शाखा, भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) की प्रदेश उपाध्यक्ष हैं। वह 2014 में पार्टी में शामिल हुई थीं। उन्होंने पहली बार 2015 में चुनावी सियासत में कदम रखा जब वह कोलकाता नगर निगम का चुनाव लड़ी थीं। इस चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। उन्होंने 2021 का विधानसभा चुनाव एंटाली सीट से लड़ा था जहां उन्हें टीएमसी उम्मीदवार से 58,000 से ज्यादा मतों के अंतर से शिकस्त झेलनी पड़ी थी। पश्चिम बंगाल प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, “हमने कुछ भाजपा नेताओं से संपर्क किया लेकिन कई ने चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया। प्रियंका टिबरीवाल एक निडर नेता, बहुत मेहनती और एक बेहतरीन तरीके से काम करने वाली हैं। वह बहुत अच्छी वक्ता हैं। हमें पूरा भरोसा है कि वह ममता बनर्जी को हराकर सीट जीतेंगी।” 

Source Link

Share:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply