National

लखीमपुर हिंसा: दो महीने से छिप रहे थे बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या के आरोपी, SIT ने किया गिरफ्तार

पिछले साल 3 अक्टूबर को हुई लखीमपुर खीरी हिंसा के सिलसिले में विशेष जांच दल (एसआईटी) ने शनिवार को दो किसानों को गिरफ्तार किया था। एसआईटी सूत्रों के अनुसार, हिंसा के दौरान तीन भाजपा कार्यकर्ताओं की कथित रूप से पीट-पीट कर हत्या करने के मामले में किसानों को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार किए गए दो किसानों की पहचान कमलजीत सिंह (29) और कवलजीत सिंह सोनू (35) के रूप में हुई है। वे कथित तौर पर करीब दो महीने से पुलिस से छिपे हुए थे। एसआईटी ने पहले कुछ संदिग्धों की तस्वीरें जारी की थीं, जिनमें दोनों शामिल थे। उन्हें मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाएगा और जांच अधिकारी द्वारा उनकी रिमांड कस्टडी मांगी जाएगी।

लखीमपुर खीरी हिंसा: अब तक गिरफ्तारियां भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं की मौत के मामले में अब तक छह किसानों को गिरफ्तार किया जा चुका है। एसआईटी ने पहले विचित्र सिंह, गुरविंदर सिंह, अवतार सिंह और रंजीत सिंह को संदिग्धों के रूप में पहचाने जाने के बाद गिरफ्तार किया था। हिंसा के दौरान चार किसानों और एक पत्रकार की मौत के साथ ही केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा के साथ सह-आरोपी भाजपा कार्यकर्ता सुमित जायसवाल की शिकायत के आधार पर शुरू में ‘अज्ञात किसानों’ के खिलाफ हत्या और दंगा करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। 

सुमित द्वारा दर्ज की गई प्राथमिकी में उन पांचों की मौत का जिक्र नहीं था, जिन्हें कथित तौर पर आशीष के काफिले ने कुचल दिया था। हिंसा से संबंधित पहली प्राथमिकी पुलिस ने आशीष और अन्य के खिलाफ किसानों की शिकायत के आधार पर दर्ज की थी। एसआईटी ने उस मामले में 13 लोगों को गिरफ्तार किया था और घटना को ‘नियोजित’ करार दिया था।

Source Link