AAP ऑफिस में ‘बेसुध शराबी’ की तस्वीर वायरल पर माफी भाजपा को मांगनी पड़ी, जानिए क्यो?

पिछले दिनों गुजरात में एक तस्वीर जबरदस्त तरीके से वायरल हुई थी। वायरल तस्वीर को लगभग भाजपा के सभी स्थानीय नेताओं ने पोस्ट किया था। इस तस्वीर में आम आदमी पार्टी के कार्यालय में एक व्यक्ति बेसुध होकर पड़ा हुआ है। देखने से ऐसा लग रहा है कि वह नशे में है। भाजपा की ओर से यह आरोप लगाया गया कि आप कार्यकर्ता शराब पीकर पार्टी कार्यालय में पड़ा हुआ है। लेकिन जब मामले की पूरी तरह से तफ्तीश हुई तो भाजपा के लिए यह मामला उल्टा पड़ गया। इसके बाद भगवा पार्टी को माफी भी मांगनी पड़ी।
 

इसे भी पढ़ें: आप के काफिले पर हमले के बाद केजरीवाल ने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से की बात

दरअसल, पिछले दिनों गुजरात के सूरत में हुए नगर निगम चुनाव में आम आदमी पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया था। पार्टी ने उत्साह के साथ गुजरात में अपनी पैठ बनाने की शुरुआत कर दी है। इसी के तहत जगह-जगह पार्टी कार्यालय भी खोले जा रहे हैं। इन सब के बीच गुजरात के सूरत शहर के गोपीपुरा इलाके में आम आदमी पार्टी का एक कार्यालय है। तस्वीर जो वायरल हुई है यह उसी कार्यालय की बताई जा रही है जिसमें एक व्यक्ति ऑफिस के भीतर सोफे पर पैर फैला कर जमीन पर लेटा नजर आता है। तस्वीर देखने के बाद कोई भी यही कहेगा कि आप कार्यकर्ता नशे में पार्टी कार्यालय में पड़ा हुआ है। भाजपा की ओर से यही आरोप भी लगाया गया। तस्वीर लगभग शाम के 6:45 की है।
 

इसे भी पढ़ें: अरविंद केजरीवाल के 3 बड़े ऐलान, पंजाब में सरकार बनने पर देंगे 300 यूनिट बिजली मुफ्त

जब यह मामला गरमाया तो पुलिस ने इसकी पूरी जानकारी इकट्ठा करना चाही। इसके लिए सीसीटीवी फुटेज का सहारा लिया गया। सीसीटीवी फुटेज में जो बातें सामने आई वह भाजपा के लिए ही उल्टा पड़ गया। दरअसल, सोफे पर पैर करके जमीन पर लेटा हुआ व्यक्ति आम आदमी पार्टी का नहीं बल्कि भाजपा का ही कार्यकर्ता निकला। गोपीपुरा इलाके में जहां आम आदमी पार्टी का कार्यालय है उसके ठीक सामने भाजपा का भी कार्यालय स्थित है। सीसीटीवी फुटेज से जो बातें सामने आई है उसके तहत भाजपा कार्यालय के सामने मौजूद आप कार्यालय में भाजपा कार्यकर्ता हिमांशु मेहता शराब के नशे में जाकर लेट जाता है जबकि दूसरा कार्यकर्ता जयराज साहूकार उसकी तस्वीर खींचकर अलग-अलग भाजपा नेताओं को व्हाट्सएप ग्रुप में भेज देता है। सच्चाई सामने आने के बाद मामला एफआईआर तक पहुंचा। इसके बाद भाजपा नेता प्रशांत बरोट की ओर से लिखित माफीनामा करवाया गया जिसके बाद मामले की शिकायत नहीं की गई। 

Source Link

Leave a Reply