सुरक्षाबलों ने शहीद हुए 5 जवानों की शहादत का लिया बदला, कश्मीर में 24 घंटे के अंदर 5 आतंकी ढेर

जम्मू/श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के विभिन्न जिलों में सोमवार को हुई तीन मुठभेड़ों में एक जूनियर कमीशंड अधिकारी (जेसीओ) समेत सेना के पांच जवान शहीद हो गए, वहीं इस दौरान 24 घंटे में 5 आतंकवादी भी ढेर कर दिए गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सीमावर्ती जिले पुंछ के सुरनकोट इलाके में डेरा की गली (डीकेजी) के पास एक गांव में आतंकवादियों द्वारा की गई गोलीबारी में सैनिक शहीद हो गए। सेना और पुलिस ने नियंत्रण रेखा पार कर यहां आए आतंकवादियों की मौजूदगी की जानकारी मिलने के बाद संयुक्त अभियान शुरू किया था। अनंतनाग और बांदीपोरा जिलों में मुठभेड़ के दौरान दो आतंकवादी मारे गए और एक पुलिसकर्मी घायल हो गया।

इसे भी पढ़ें: भाजपा को खुश करने के लिए आर्यन खान की गिरफ्तारी पर ममता क्यों चुप हैं? अधीर चौधरी का सवाल

एक रक्षा प्रवक्ता ने यहां एक बयान में कहा, “10 और 11 अक्टूबर की दरमियानी रात को जम्मू-कश्मीर में पुंछ-राजौरी जिलों की सीमा के पास शाहदरा इलाके में भारतीय सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने आतंकवाद विरोधी एक अभियान शुरू किया था। इस अभियान के दौरान, आतंकवादियों ने सेना के जवानों पर भारी गोलीबारी की जिससे एक जेसीओ और चार सैनिक गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्होंने कहा कि सर्वोच्च बलिदान देने वाले सैनिकों में नायब सूबेदार (जेसीओ) जसविंदर सिंह, नायक मनदीप सिंह, सिपाही गज्जन सिंह, सराज सिंह और वैशाख एच शामिल हैं। प्रवक्ता ने कहा, देश हमारे वीरों के सर्वोच्च बलिदान और कर्तव्यपरायणता के लिए सदैव उनका ऋणी रहेगा। अधिकारियों ने कहा कि भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों के नियंत्रण रेखा पार कर चमरेर के जंगल में छुपे होने की खबर मिली थी।

इसे भी पढ़ें: ‘सरकारी’ कार्य संस्कृति को बदलने के लिए गतिशक्ति इंफ्रा मास्टर प्लान लॉन्च करेंगे पीएम मोदी

आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर भारी गोलीबारी की जिससे पांच जवान गंभीर रूप से घायल हो गए। बाद में इलाज के दौरान पास के एक सैन्य अस्पताल में सभी पांच सैनिकों की मौत हो गई।
उन्होंने कहा कि शुरूआती मुठभेड़ के बाद आतंकवादी पास के भंगाई गांव में भाग गए जो राजौरी जिले के तहत आता है। उन्होंने कहा कि आतंकवादियों के सफाए के लिए मुठभेड़ जारी है और आतंकवादियों के भागने के सभी संभावित रास्तों को बंद कर दिया गया है। इस बीच सुरक्षा बलों ने आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने पर अनंतनाग जिले के वेरीनाग इलाके के खगुंड में तलाशी अभियान शुरू किया। एक अधिकारी ने कहा कि तलाशी अभियान तब मुठभेड़ में बदल गया, जब आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलियां चलाईं।

अधिकारी ने कहा कि सुरक्षा बलो की जवाबी कार्रवाई में एक आतंकवादी मारा गया, वहीं एक पुलिसकर्मी भी घायल हो गया। बांदीपोरा जिले के हाजिन इलाके में हुई एक अन्य मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा का एक आतंकवादी मारा गया। कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने ट्वीट किया, मारे गए आतंकवादी की पहचान इम्तियाज अहमद डार के रूप में हुयी है जो प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर से संबद्ध है। वह शाहगुंड बांदीपोरा में हाल ही में हुए असैनिकों की हत्या में शामिल था। सेना के पांच जवानों की मौत के बाद शिवसेना और डोगरा फ्रंट के कार्यकर्ताओं ने पाकिस्तान विरोधी प्रदर्शन किया और जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद को सहायता और बढ़ावा देने के लिए पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान का पुतला फूंका।
कांग्रेस की जम्मू कश्मीर इकाई ने सेना के पांच जवानों की मौत पर दुख जताया और भाजपा नीत सरकार से केंद्रशासित प्रदेश में पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाने का अनुरोध किया।

एक बयान में, पार्टी ने जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी घटनाओं में वृद्धि पर गंभीर चिंता जतायी। भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री कवींद्र गुप्ता ने एक बयान में कहा कि पांच जवानों की मौत के लिए जिम्मेदार आतंकवादियों का जल्द ही पता लगाया जाएगा और उन्हें मार गिराया जाएगा। उन्होंने कहा, भारत उसी में जवाब देगा, जिसे पाकिस्तान अच्छी तरह समझता है। हर आतंकवादी जो किसी तरह भारत की धरती में घुस आया है, उसे जल्द से जल्द मार गिराया जाएगा और सुरक्षा बल पहले से ही इस पर लगे हुए हैं।

Source Link

Share:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply