लखीमपुर हिंसा: घटना के विरोध में दिल्ली कांग्रेस के नेता, कार्यकर्ता मौन व्रत पर बैठे

नयी दिल्ली| दिल्ली कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता लखीमपुर खीरी में हिंसा के विरोध में सोमवार को यहां उपराज्यपाल कार्यालय के निकट ‘मौन व्रत’ पर बैठे और केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के इस्तीफे की मांग की।

दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अनिल कुमार, पूर्व केंद्रीय मंत्रियों अश्विनी कुमार तथा कृष्णा तीरथ भी प्रदर्शन में शामिल हुईं। लखीमपुर खीरी में तीन अक्टूबर को हुई हिंसा में आठ लोग मारे गए थे जिनमें से चार किसान थे।

इसे भी पढ़ें: लखीमपुर हिंसा: कांग्रेस का देशभर में मौन विरोध प्रदर्शन, राज्य मंत्री अजय मिश्रा को हटाने की मांग

किसानकथित तौर पर एक वाहन से कुचल गए थे जिसमें भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता सवार थे। इसके बाद गुस्साए किसानों ने वाहनों में सवार कुछ लोगों को कथित तौर पर पीट-पीटकर मार डाला था। मरने वालों में भाजपा के दो कार्यकर्ता और वाहन चालक शामिल हैं।

अनिल कुमार ने प्रदर्शन शुरू करने से पहले कहा, ‘‘कांग्रेस राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में राज्यपालों एवं उप राज्यपालों के कार्यालयों के बाहर ‘मौन व्रत सत्याग्रह’ कर रही है। हम केंद्रीय गृह राज्य मंत्री (अजय मिश्रा) के इस्तीफे और उनकी गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं जो लखीमपुर में हुई घटना की जांच को प्रभावित कर सकते हैं।’’

युवा कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता भी जंतर मंतर पर भी ‘मौन व्रत’ पर बैठे। भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बी. वी. ने आरोप लगाया कि लखीमपुर खीरी में किसानों की हत्याओं ने उन्हें ब्रिटिश शासन की याद दिला दी।

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘यह एक सुनियोजित साजिश के तहत किया गया है ताकि किसानों में भय का माहौल उत्पन्न हो।’’
इस मौके पर भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और दिल्ली प्रभारी भैया पवार, सचिव मुकेश कुमार, दिल्ली इकाई के अध्यक्ष रणविजय सिंह लोचव समेत कई नेता व कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Source Link

Share:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply