बीएमसी ने कार्यालयों और हाउसिंग सोसायटी में टीकाकरण केंद्र के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किए

मुंबई। कोविड-19 टीकाकरण में कथित घोटाले की हालिया घटनाओं की पृष्ठभूमि में बृह्नमुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने अतिरिक्त दिशानिर्देश जारी किए हैं, जिसमें कहा गया है कि हाउसिंग सोसायटी और कार्यालय में निजी टीकाकरण केंद्र कोविन पोर्टल पर पंजीकृत कराने के बाद ही लगाए जा सकते हैं। यह जानकारी एक अधिकारी ने शुक्रवार को दी। नगर निकाय ने शहर में केंद्र सरकार के कोविन पोर्टल पर शहर के पंजीकृत 95 निजी टीकाकरण केंद्रों की सूची भी जारी की है और इसके साथ ही वार्ड स्तर पर वॉर रूम के नंबर भी जारी किए गए हैं।

इसे भी पढ़ें: कोविड साप्ताहिक : डेल्टा वेरिएंट ने अनियमित वैक्सीनेशन की खामियों को उजागर किया

बीएमसी द्वारा बृहस्पतिवार को जारी दिशानिर्देश के मुताबिक हाउसिंग सोसायटी और कार्यालय में पंजीकृत निजी कोविड टीकाकरण केंद्र के जरिये ही कोविड टीके लगवाए जा सकेंगे और कार्यालय और हाउसिंग सोसायटी का प्रबंधन स्थानीय अधिकारियों से संपर्क कर यह सुनिश्चित करेगा कि केंद्र कोविन पर पंजीकृत है। इसमें कहा गया कि कार्यालय और हाउसिंग सोसायटी प्रबंधन एक व्यक्ति को ‘नोडल अधिकारी’ के तौर पर नियुक्त करेंगे, जो निजी टीकाकरण केंद्र और टीकाकरण से जुड़ी गतिविधियों का समन्वय करेगा। दिशानिर्देश में कहा गया कि नोडल अधिकारी टीकाकरण से जुड़े सभी पहलुओं को देखेगा, जैसे लाभार्थियों का पंजीकरण, आधारभूत अवसंरचना, आईटी अवसंरचना आदि। उल्लेखनीय है कि बीएमसी ने पिछले महीने कार्यालय और हाउसिंग सोसायटी में टीकाकरण के लिए दिशा निर्देश जारी किए थे, जिसमें निजी टीकाकरण केंद्रों के साथ सहमति पत्र पर हस्ताक्षर को अनिवार्य बनाया गया था, लेकिन इसकी विस्तृत भूमिका और जिम्मेदारी दिशानिर्देश में नदारद थी।

इसे भी पढ़ें: धवन-द्रविड़ की अगुवाई में श्रीलंका पहुंची भारतीय टीम, अभ्यास शुरू किया

नए दिशानिर्देश के मुताबिक नोडल अधिकारी सुनिश्चित करेगा कि हाउसिंग सोसायटी और पंजीकृत निजी टीकाकरण केंद्र द्वारा सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए जाए और टीकाकरण की तारीख सोसायटी के सूचना पट पर प्रदर्शित की जाए। दिशानिर्देश के मुताबिक हाउसिंग सोसायटी संबंधित चिकित्सा अधिकारी और स्थानीय पुलिस थाने को टीकाकरण शिविर के बारे में कम से कम तीन पहले सूचित करेगी। इसमें कहा गया कि निजी टीकाकरण केंद्र का नोडल अधिकारी सुनिश्चित करेगा कि सभी लाभार्थियों को डिजिटल प्रमाण पत्र मिले और स्वास्थ्य विभाग की टीम भी टीकाकरण केंद्र का औचक निरीक्षण करेगी। गौरतलब है कि मुंबई पुलिस ने पिछले महीने हाउसिंग सोसायटी और निजी कंपनियों के लिये फर्जी टीकाकरण केंद्र लगाने वाले गिरोह का पर्दाफाश होने के बाद से इस सिलसिले में अब तक 10 प्राथमिकी दर्ज की है। बीएमसी के मुताबिक, शहर में अबतक 54,67,805 लोगों का टीकाकरण हुआ है, जिनमें से 10,83,266 लागों को दोनों खुराक दी जा चुकी है।

Source Link

Leave a Reply