उत्तर प्रदेश में एक दिन में कुल 1,72,447 सैम्पल की जांच की गयी, कोरोना संक्रमण के 11 नये मामले आये

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,72,447 सैम्पल की जांच की गयी है। जिसमें कोरोना संक्रमण के 11 नये मामले आये हैं। प्रदेश में अब तक कुल 8,01,36,794 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 17 तथा अब तक कुल 16,86,904 लोग कोविड-19 से ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में कोरोना के कुल 138 एक्टिव मामले है। उन्होंने बताया कि कोविड वैक्सीनेशन का कार्य निरन्तर किया जा रहा है। कल एक दिन में 17,06,868 कोविड वैक्सीन की डोज दी गयी है। प्रदेश में कल तक पहली डोज 9,06,23,349 तथा दूसरी डोज 2,38,98,974 लगायी गयी हैं। कल तक कुल 11,45,22,323 कोविड डोज दी गयी है। प्रसाद ने बताया कि कोविड संक्रमण अभी पूरी तरह समाप्त नहीं हुआ है। इसलिए सभी लोग कोविड अनुरूप आचरण करे। टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन अवश्य करें। किसी भी प्रकार की समस्या होने पर कोविड हेल्पलाइन 18001805145 पर सम्पर्क करे। 
शिक्षा का उद्देश्य मात्र साक्षरता नहीं बल्कि रोज़गार के अवसर प्रदान करना है
प्रदेश सरकार द्वारा दिया गया प्राविधिक शिक्षा विभाग का दायित्व मेरे लिए सौभाग्य का विषय है। देश का भविष्य हमारी आज की युवा पीढ़ी पर है, जो जितना शिक्षित/प्रशिक्षित होगा, हमारा राष्ट्र उन्नति के पथ पर उतना ही आगे बढ़ेगा। शिक्षा का उद्देश्य मात्र साक्षरता नहीं, बल्कि रोज़गार के अवसर भी प्रदान करना है। पॉलीटेक्निक छात्र/छात्राएँ अधिकांशतः सामान्य परिवारों एवं ग्रामीण अंचलों से आते हैं। ऐसे में हमारा दायित्व और बढ़ जाता है कि उनकी प्रतिभाओं को इतना धार दें, इतना विकास करें कि वे अपनी चमक से अपने परिवार, समाज, प्रदेश एवं राष्ट्र को रोशन कर सकें। हमें सफलता के पथ पर आगे बढ़ने के लिए प्रधानमंत्री जी द्वारा दिए गये ट्रिपल सी-क्रियेटिविटी, क्यूरोसिटी एवं कमिटमेंट फार्मूले पर चलना होगा सफलता खुद हम तक पहुँचेगी।
 

इसे भी पढ़ें: कुशीनगर 20 अक्टूबर को आएंगे प्रधानमंत्री मोदी, मुख्यमंत्री ने की समीक्षा बैठक

 
प्राविधिक शिक्षा विभाग मंत्री,  जितिन प्रसाद ने आज ये बातें यहाँ राजकीय पॉलीटेक्निक प्रांगण में आयोजित तकनीकी छात्र/छात्राओं के साथ शैक्षिक संवाद एवं उत्कृष्ट छात्र/छात्राओं को प्रशस्ति पत्र वितरण कार्यक्रम में कहीं। उन्होंने मुख्य रूप से वर्तमान में तकनीकी शिक्षा अर्जित कर रहे पालीटेक्निक छात्र-छात्राओं के साथ सीधा संवाद स्थापित किया जिसमें छात्र-छात्राओं द्वारा बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित करने, ग्रामीण अंचलों से आए हिंदी भाषी छात्र/छात्राओं हेतु प्रतिस्पर्धाओं का सामना करने की तैयारी, विद्यार्थी जीवन से ही चल रहे रोज़गार की चिन्ता, प्लेसमेण्ट एवं अन्य विभिन्न विषयों पर प्रश्नों के माध्यम से अपने वर्तमान एवं भविष्य को लेकर वृहद् परिचर्चा की। इस अवसर पर  जितिन प्रसाद ने भविष्य में प्राविधिक शिक्षा के बहुआयामी उन्नयन हेतु अपने मिशन के तौर पर संचालित कर प्रदेश की युवा पीढ़ी को तकनीकी शिक्षा से जोड़कर उनके कौशल को सुविकसित एवं सुसज्जित कर उन्हें राष्ट्र निर्माण में अपनी सार्थक भूमिका निभाने हेतु प्रेरित किया गया।  
    
कार्यक्रम मे राजकीय एवं अनुदानित पालीटेक्निक संस्थाओं के उत्कृष्ट छात्र-छात्रओं को प्राविधिक शिक्षा मंत्री द्वारा पुरस्कृत भी किया गया। पुरस्कृत होने वाले छात्र-छात्राओं में राजकीय पालीटेक्निक लखनऊ के सिविल अभियंत्रण के कुनाल कुमार द्विवेदी एवं इलेक्ट्रानिक्स अभियंत्रण के ऋद्धम सैनी, राजकीय महिला पालीटेक्निक की फैशन डिजायन, अन्तिम वर्ष की फरहीन याकूब, कुमारी अंकिता दूवे, उन्नत राज, मोनिका विश्वास, सोमा वर्मा, हीवेट पालीटेक्निक की आई0 टी0 अन्तिम वर्ष की एकता प्रजापति, संजना मौर्या, लखनऊ पालीटेक्निक के इलेक्ट्रानिक्स अन्तिम वर्ष के राजेश कुमार मौर्या एवं इलेक्ट्रिकल अन्तिम वर्ष की प्रियांशी सिंह सम्मिलित रहे। कार्यक्रम में प्राविधिक शिक्षा विभाग के वर्तमान में अर्जित उपलब्धियों पर आधारित एक फोटो गैलरी एवं पालीटेक्निक संस्थओं में विभिन्न ट्रेडों में अध्ययनरत् छात्र-छात्राओं द्वारा आधुनिक तकनीकी पर आधारित समावेशी विकास को समर्पित एक मॉडल प्रदर्शनी का भी आयोजन किया गया। जिसमें राजकीय पालीटेक्निक लखनऊ के छात्र गौरव सिंह पटेल तथा सौरभ कुमार गौतम द्वारा संस्था के व्याख्याता भौतिकी,  आर0 के0 वर्मा के नेतृत्व में एस्ट्रोनामी फिजिक्स पर प्रकाशित चार पुस्तकों तथा तीन रिसर्च पेपर की प्रस्तुति एवं राजकीय महिला पालीटेक्निक की छात्रा साक्षी साहू तथा श्वेता पाण्डेय द्वारा प्रदर्शित पाल्यूशन कन्ट्रोल सिस्टम की मंत्री जी द्वारा बहुत ही सराहना की गयी। साथ ही प्राविधिक शिक्षा मंत्री द्वारा राजकीय पालीटेक्निक लखनऊ के पी0एम0टी0 ब्लाक का लोकार्पण, वृक्षारोपण एवं शैक्षिक स्टाफ से सीधा संवाद स्थापित किया गया।
 

इसे भी पढ़ें: कानून हाथ में लेने की छूट किसी को नहीं, लेकिन दबाव में कोई कार्रवाई नहीं होगी: योगी

कार्यक्रम में प्राविधिक शिक्षा विभाग के निदेशक,  मनोज कुमार जी, द्वारा तकनीकी शिक्षा की महत्ता एवं भावी युवा पीढ़ी के उज्ज्वल भविष्य हेतु इसकी सार्थकता पर विशेष प्रकाश डाला गया एवं प्राविधिक शिक्षा विभाग के विजन डाक्यूमेंट पर एक विस्तृत रूपरेखा प्रस्तुत की गयी। स्वागत भाषण  सुनील कुमार चौधरी, विशेष सचिव, प्राविधिक शिक्षा, उ0प्र0 शासन द्वारा प्रस्तुत किया गया एवं संस्था प्रधानाचार्य  प्रमोद कुमार द्वारा कार्यक्रम में उपस्थित मुख्य अतिथि, विशेष अतिथि, प्राविधिक शिक्षा विभाग के समस्त अधिकारीगण, समस्त मीडिया बन्धुओं सहित कार्यक्रम में उपस्थित सभी गणमान्य व्यक्तियों को धन्यवाद ज्ञापित किया गया। कार्यक्रम में विशेष सचिव,  कृपा शंकर, एवं  नागेन्द्र शर्मा, निदेशक, प्राविधिक शिक्षा,  मनोज कुमार, संयुक्त निदेशक, प्राविधिक शिक्षा (मध्य क्षेत्र)  के0 राम, संयुक्त निदेशक, प्राविधिक शिक्षा, पूर्वी क्षेत्र, सुरेन्द्र प्रसाद, प्रधानाचार्य, राजकीय पालीटेक्निक, लखनऊ  प्रमोद कुमार, प्रधानाचार्य राजकीय महिला पालीटेक्निक लखनऊ,  एस0 के0 वास्तव, प्रधानाचार्य हीवेट पालीटेक्निक लखनऊ,  डॉ यू0 सी0 वाजपेयी, प्रधानाचार्य, लखनऊ पालीटेक्निक लखनऊ,  राजेन्द्र सिंह सहित संस्था के समस्त शिक्षक, कर्मचारी एवं छात्र-छात्राएँ उपस्थित रहे। 
यूपीनेडा मुख्यालय भवन के तृतीय तल पर नवनिर्मित वीडियो कान्फ्रेंसिंग कक्ष का उद्घाटन
ऊर्जा दक्षता ब्यूरो, विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार के वित्तीय सहयोग से यूपीनेडा मुख्यालय भवन के तृतीय तल पर नवनिर्मित वीडियो कान्फ्रेंसिंग कक्ष का उद्घाटन अपर मुख्य सचिव, ऊर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत विभाग एवं कृषि उत्पादन आयुक्त  आलोक सिन्हा द्वारा किया गया। उद्घाटन के उपरान्त वीडियो कान्फ्रेंसिंग कक्ष में यूपीनेडा की कार्यकारिणी समिति की 58वीं बैठक  आलोक सिन्हा की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। 
बैठक में मुख्य रूप से यूपीनेडा को अक्षय ऊर्जा से उत्पादित विद्युत की आपूर्ति ट्रेडिंग लाइसेंसी के रूप में करने हेतु यूपीनेडा के मेमोरेण्डम ऑफ एसोसिएशन में प्राविधान किए जाने विषयक प्रस्ताव को अनुमोदित किया गया। यूपीनेडा के ट्रेडिंग लाइसेंसी बनने से उत्तर प्रदेश में अक्षय ऊर्जा के प्रयोग को बढ़ावा मिलेगा तथा विभिन्न संस्थानों/उपक्रमों को सस्ते दरों पर अक्षय ऊर्जा से विद्युुत की आपूर्ति सुनिश्चित हो सकेगी। इसके अतिरिक्त सोलर टुस्को लिमिटेड जो यूपीनेडा एवं टीएचडीसीआईएल का संयुक्त उपक्रम है, में पेड-अप शेयर कैपिटल बढाए जाने के प्रस्ताव को भी अनुमादित किया गया।
 
उपरोक्त के अतिरिक्त बीएसयूएल (यूपीनेडा एवं एनएचपीस का संयुक्त उपक्रम) में ऑथराइज्ड शेयर कैपिटल बढाने संबंधी प्रस्ताव को भी कार्यकारिणी समिति द्वारा अनुमोदित किया गया। इस बैठक में यूपीनेडा के निदेशक  भवानी सिंह खंगारौत एवं सचिव  अनिल कुमार भी उपस्थित थे।
श्रम कल्याण परिषद की 81वीं बोर्ड की बैठक हुई
उत्तर प्रदेश श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष  सुनील भराला की अध्यक्षता में परिषद की  81वीं बोर्ड की बैठक तिलक हॉल में सम्पन्न हुई, जिसमें बोर्ड की पिछली बैठक की कार्यवाही की समीक्षा करते हुए वाणिज्यकर एवं कारखानो को श्रमिको के लिए यूनिफाइड नम्बर देने के लिए सर्व सम्मति से प्रस्ताव पारित किया गया। अब उ0प्र0 के श्रमिको को परिषद की योजनाओं के साथ-साथ यूनिफाइट नम्बर भी मिलेगा, जिससे किसी भी कारखाने एवं वाणिज्यकर के तहत काम और न्यूनतम वेतन भी मिलेगा। सुनील भराला ने बताया कि श्रम कल्याण परिषद की धार्मिक एवं पर्यटन श्रमिक योजना अब श्रवण कुमार धार्मिक पर्यटन योजना के नाम से जानी जायेगी। यह निर्णय बोर्ड की बैठक में सर्व सम्मति से लिया गया। श्रम कल्याण परिषद के सदस्यो ने यह भी प्रस्ताव रखा है कि श्रमिको की कल्याणकारी योजनाओ का बेहतर  कियान्वयन के लिए जनपदो में अभियान चलाकर सदस्यों द्वारा समीक्षा बैठक की जाये।  भराला ने कहा कि 10 नवम्बर, 2021 तक श्रवण कुमार धार्मिक पर्यटन योजना के पात्रों को लाभ देकर मुख्यमंत्री जी द्वारा हरी झंडी दिखाकर यात्रियो को रवाना किया जायेगा। इसी प्रकार चेतन चौहान खेल क्रीड़ा योजना में 10 नवम्बर को श्रमिक परिवार खिलाड़ियों को योजना का हितलाभ विश्वैश्रैया हाल में मुख्यमंत्री जी द्वारा मुख्य अतिथि के रूप में लाभान्वित किया जायेगा।
भराला ने समस्त श्रमायुक्त, सहायक श्रमायुक्त, श्रम प्रवर्तन अधिकारीयो को निर्देशित किया है कि उ0प्र0 के जनपदो में जहां भी योजनान्तर्गत 25 लाभार्थी नही हुए हैं अब उन संबंधित अधिकारियों पर कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी, उनके वेतन रोकने का आदेश भी जारी किया गया है। उन्होंने कहा कि पिछली बोर्ड की बैठक में सभी अधिकारियों को लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जो कि 30 सितम्बर, 2021 तक थी। बैठक में सदस्य  अजीत कुमार जैन ने यह मुददा उठाया कि 02 अक्टूबर, 2021 को गांधी जयंती का कार्यक्रम जनपद बरेली में पूर्व निर्धारित था, जिसमें श्रम कल्याण परिषद की योजनाओ का प्रचार-प्रसार किया जाना था, लेकिन अधिकारियों की लापरवाही के कारण कार्यक्रम को स्थगित करना पड़ा, जिस पर बोर्ड के आपत्ति उठाते सम्बन्धित अधिकारी को र्निदेश जारी किया। इसी क्रम में महाराजा हरिश्चन्द्र मृतक आश्रित सहायता योजना के अंतर्गत पत्रांे को लाभान्वित करने के लिए सर्व सम्मति से 02 करोड 25 लाख रूपये पारित किया गया है। 
 

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi’s NewsRoom । अमित शाह से मिले खट्टर, BJP कार्यकर्ताओं की हत्या पर टिकैत का अजीबोगरीब बयान

भराला ने कहा कि श्रम कल्याण परिषद द्वारा संचालित कल्याणकारी योजनाओ के अंतर्गत सभी विभागीय अधिकारी पात्र लाभार्थियों की सूची बनायें, जिससे कि दत्तोपंत ठेगडी जयंती पर 10 नवम्बर, 2021 को इन्हें लाभान्वित किया जा सके। इसी प्रकार सर्वश्रेष्ठ कार्य करने वाले श्रमिक नेता, उघमी, वाणिज्यकर मालिक उघमी को सम्मानित करने का निर्णय लिया गया। बोर्ड की बैठक में परिषद के सदस्य, आमन्त्रित सदस्य व अन्य विभागीय अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे। इसमें  राधे कृष्ण त्रिपाठी,  कन्हैयालाल भारती,  अजीत जैन,  मूरहू राजभर,  नवीन जैन, विशेष आमंत्रित सदस्यों में  विवेक सक्सेना,  संजय दुबे,  नमन भारद्वाज, मती सुचीता तिवारी,  डी0के0 सिंह अपर श्रम कल्याण आयुक्त,  प्रदीप कुमार उप श्रम कल्याण आयुक्त,  पंकज राणा सहायक श्रमायुक्त, मो० रिजवान अली आदि उपस्थित थे।
प्रदेश में अब तक कुल 2079 पशु शिविर स्थापित किये गये हैं, अब तक कुल 369999 ड्राई राशन किट वितरित किए गये हैं
उत्तर प्रदेश के राहत आयुक्त  रणवीर प्रसाद ने वर्षा की स्थिति से अवगत कराते हुए बताया कि गत 24 घंटे में प्रदेश में शून्य मि0मी0 औसत वर्षा हुई है, जो सामान्य वर्षा से 1.2 मि0मी0 के सापेक्ष शून्य प्रतिशत है। प्रदेश में दक्षिण पश्चिम मानसून के दौरान प्रदेश में (01 जून, 2021 से 30 सितम्बर, 2021 तक) 748.8 मि0मी0 औसत वर्षा हुए, जो सामान्य वर्षा 790.2 मि0मी0 के सापेक्ष 95 प्रतिशत है। उन्होंने बताया कि शारदा-खीरी में खतरे के जलस्तर से ऊपर बह रही है। प्रदेश में वर्तमान में 06 जनपदों में 28 गांव बाढ़ से प्रभावित है। प्रदेश के वर्षा से प्रभावित जनपदों मंे सर्च एवं रेस्क्यू हेतु एन0डी0आर0एफ0, एस0डी0आर0एफ0 तथा पी0ए0सी0 की कुल 59 टीमें तैनाती की गयी है।
 

इसे भी पढ़ें: प्रियंका की रैली को लेकर तैयारियां जोरों पर, वाराणसी में कांग्रेसियों ने डाला डेरा

प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में 1124 बाढ़ शरणालय स्थापित किये गये हैं। 1528 मेडिकल टीमें तथा 8886 नावें बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लगायी गयी है। उन्होंने बताया कि खोज बचाव कार्य हेतु 451 मोटर बोट तथा 208 वाहन लगाये गये हैं। प्रदेश में 1258 बाढ़ चौकी स्थापित की गयी है। प्रदेश में अब तक कुल 2079 पशु शिविर स्थापित किये गये हैं। विगत 24 घंटों में पशु टीकाकरण की संख्या 93 तथा अब तक कुल पशु टीकाकरण की संख्या 1010947 है। एन0डी0आर0एफ0, एस0डी0आर0एफ0 द्वारा 58178 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया। प्रसाद ने बताया कि अब तक कुल 369999 ड्राई राशन किट वितरित किए गये हैं। अब तक कुल 639613 फूड पैकेट वितरित किए गए हैं। प्रदेश में 315652.89 मी0 त्रिपाल, पीने के पानी का पाउच 258239 ली0, ओ0आर0एस0 के 309991 पैकेट तथा क्लोरीन के 3252439 टेबलेट वितरित किया गया है।

Source Link

Share:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply