यूजर्स से 9 डॉलर की क्रिप्टोकरेंसी वापस लेने के लिए, सीईओ ने हाथ जोड़कर लौटाने का किया अनुरोध

नयी दिल्लीा। क्रिप्टोकरेंसी को कई देशों में वैध करार दिया गया है ऐसे में,  क्रिप्टोकरेंसी के नाम पर कई देशों में उत्साह देखने को मिलता है लेकिन इस बीच एक अचंभित कर देने वाला मामला सामने आया है दरअसल फाइनेंस प्लेटफार्म कंपाउंड में कुछ अपडेट किए जा रहे थे। इस बीच एक बैग आ जाने से यूजर्स के पास 9 करोड डॉलर की क्रिप्टोकरेंसी चली गई। अब इस करेंसी को वापस लेने के लिए कंपनी के सीईओ हाथ जोड़कर यूजर्स से लौटाने की गुहार कर रहे हैं ।
 

इसे भी पढ़ें: मंडी लोकसभा उप चुनाव के लिये आठ अक्तूबर को कांग्रेस प्रत्याशी प्रतिभा सिंह करेंगी नामांकन 

 
गड़बड़ी किसी बुरे सपने से कम नहीं
इस तरह की गड़बड़ी का कोई कन्टॉल जैड नहीं होता। यह एक बुरे सपने की तरह अचानक हिला कर रख देने जैसे मालूम पड़ता है। जिसे पारंपरिक वित्त प्रणाली को खत्‍म हो जाने के जैसा देख सते हैं। डिसेंट्रलाइज्डत फाइनेंस प्लेटफॉर्म में बैंक या अन्य बिचौलिए नहीं होते हैं, जो पूरी तरह से कंप्यूटर कोड द्वारा नियंत्रित यूजर्स के बीच स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स पर निर्भर होने के बजाय फंड का प्रबंधन करते हैं। जानकारों का कहना है कि पारंपरिक फर्मों को काटने में डेफी अधिक भेदभावहीन है।
आलोचकों का कहना है
यह अक्सर ‘कोड इज लॉ’ मंत्र का उपयोग करके इस बात पर जोर देता है कि कंप्यूटर कोड सिस्टम को नियंत्रित करता है। लेकिन आलोचकों का कहना है कि जब कोड में गलतियां होती हैं, तो यह उपयोगकर्ताओं के लिए परेशानी का सबब बन जाता है।
 
न्यूज़ 24 की रिपोर्ट्स की माने तो उनके मुताबिक कई क्रिप्टो  प्रोजेक्टम की आलोचना करने वाले अमेरिकंस फॉर फाइनेंशियल रिफॉर्म के सीनियर पॉलिसी एनालिस्टर एंड्रयू पार्क का कहना है कि मौजूदा बैंकिंग प्रणाली की आलोचना करने के कारण हैं, लेकिन इस तरह की चीजों को होने से रोकने के लिए बहुत सारे सुरक्षा उपाय हैं। कंपाउंड में हुई गलती सिर्फ एक बहुत बड़ी भूल है। आपको बता दैं, करीब से देखे जाने वाला क्रिप्टो प्रोजेक्ट पिछले महीने घंटों के लिए ब्लैक आउट हो गया था। अगस्त में एक हैकर ने लगभग 600 मिलियन डॉलर मूल्य के टोकन लेने के लिए एक अन्य डेफी प्रोजेक्ट में खामी का फायदा उठाया था, लेकिन बाद में हैकर ने उसे वापस कर दिया था।
 
पूरा मामला समझें
बुधवार के दिन से कंपाउंड में इस समस्याक की शुरूआत हुई थी, जब यूजर्स ने कंपाउंड के प्लेटफॉर्म के अपडेट को मंजूरी दे दी, जब्कि उसमें एक बग था। मामले कि गंभीरता को देखते हुए कंपाउंड लैब्स इंक. के सीईओ रॉबर्ट लेशनर ने ट्विटर के जरिये शेयर किया कि बग कुछ यूजर्स के लिए बहुत अधिक सीओएमपी का कारण बना, लेकिन चूंकि मंच विकेंद्रीकृत है और वेटिंग पीरियड की आवश्यकता है, तो न उनकी कंपनी और न ही किसी और के पास टोकन के वितरण को रोकने की क्षमता है। जिसके बाद सीईओ ने उसे हाथ जोड़कर वापस लौटाने के लिए की मन्नत की। आपको बता दें, COMP एक प्रकार का टोकन है, जिसकी कीमत शुक्रवार को 319 डॉलर प्रति कॉइन थी।

Source Link

Share:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply