ऐसा क्या किया टीचर ने जो जिंदगी भर के लिए अपाहिज हुई छात्रा , पढ़ें पूरी खबर

चीन। स्कूल में बच्चे थोड़ी बहुत शरारत तो करते ही हैं। यदि वे शैतानी न करें तो उनको बच्चा कौन कहेगा। इसलिए बच्चों को स्कूल पढ़ने- लिखने के साथ सही गलत बातों को जानने के लिए भी भेजा जाता है। ताकि टीचर्स उनको हर एक छोटी-बड़ी चीज़ के बारे में बताएं और उनको हर एक बात के लिए समझाएं। लेकिन टीचर ही जब बच्चों के साथ ऐसा करेंगे तो उनको टीचर का दर्जा कैसे दिया जा सकता है। मामला चीन का है, जहां एक छात्रा को स्नैक्स रखना इतना महंगा पड़ गया जिसकी सज़ा उसे जिंदगीभर के लिए अपाहिज कर गई। दरअसल चीन के एक स्कूल में टीचर्स ने बच्ची को ऐसी सज़ा दी जिससे वे जिंदगी भर के लिए अपाहिज हो गई। 
टीचर की सज़ा के बाद बच्ची अपाहिज 
चीन के साउथ वेस्टर्न सिचुआन प्रांत में एक हाई स्कूल में पढ़ने वाली 14 साल की बच्ची है की मां झाउ ने स्थानीय मीडिया से बात करते हुए बताया कि ये घटना 10 जून को रात 10 बजे घटित हुई थी। उनकी बच्ची के स्कूल के बिस्तर पर टीचर को स्नैक्स मिले थे जिसके बाद लड़की से इसके बारे में पूछने पर वे नमकीन लड़की की नहीं थी उसने मना किया बावजूद इसके टीचर ने उसे 300 उठक-बैठक करने की सज़ा सुनाई। 

इसे भी पढ़ें: चुन-चुनकर मायावती ने भाजपा समेत सभी पार्टियों पर साधा निशाना, बोलीं- …इससे इनके संस्कार का पता चलता है 

भयावह सज़ा के कारण अपाहिज हुई लड़की
300 उठक- बैठक की सज़ा देने के बाद टीचर वहां से चली गई और दूसरी टीचर को कह गई की सज़ा को देखना और सज़ा के दौरान कोई कोताही न बरती जाए। बच्ची को अप्रैल 2020 में पैर में चोट लगी थी, जिसके बारे में पता होने के बाद भी किसी ने इस सज़ा को रोका नहीं। 150 उठक-बैठक करने के बाद लड़की की हालत बिगड़ गई और उसके पैरेंट्स उसे लेकर शहर के तमाम अस्पतालों में घूमें। आखिरकार डॉक्टरों उनसे कहा कि बच्ची हमेशा के लिए अपाहिज हो चुकी है और उसे क्रचेज़ के सहारे ही चलना पड़ेगा। उस दिन के बाद से बच्ची गहरे सदमे में है और उसे डिप्रेशन की दवाएं दी जा रही हैं।
 

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव का योगी सरकार पर निशाना, कहा- मंत्री के बेटे को तलब करना केवल औपचारिकता, इस्तीफा दें अजय मिश्रा  

स्कूल ने किया हर्जाना देने का ऑफर
बच्ची की इस हालत के बारे में जब स्कूल को पता चला तो स्कूल मामले की जांच के आदेश दिए और मौके पर मौजूद रहे टीचर्स और स्टाफ को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया गया। स्थानीय खबरों के मुताबिक स्कूल की ओर से बच्ची के माता-पिता को 13 लाख का हर्जाना भी देने के लिए कहा गया, लेकिन उन्होंने पैसे लेने से मना कर दिया। चीन में ये इस तरह की दूसरी घटना है पहली घटना एक जूडो कराटे कोच ने 7 साल के बच्चे को 27 बार मैट पर पटककर उसकी जान ही ले ली थी।

Source Link

Share:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply